नई दिल्‍ली, पीटीआइ। कांग्रेस में नेतृत्व के मसले पर चल रही बहस के बीच पार्टी की युवा इकाई ने अपने पदाधिकारियों के साथ डिजिटल संवाद के बाद राहुल गांधी को अध्‍यक्ष बनाने का प्रस्‍ताव पारित किया। प्रस्‍ताव में कहा गया है कि यदि पार्टी अध्यक्ष को लेकर किसी तरह का बदलाव हो रहा हो तो राहुल गांधी को एक बार फिर से कांग्रेस की कमान सौंपी जाए। भारतीय युवा कांग्रेस के अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी ने ट्वीट कर कहा है कि केवल राहुल जी ही विपक्ष के एक मात्र ऐसे नेता हैं जो भाजपा और आरएसएस को चुनौती दे सकते हैं। सचिन पायलट ने भी राहुल के पक्ष में आवाज बुलंद की है।

सचिन पायलट ने ट्वीट कर कहा कि सोनिया गांधी और राहुल जी ने ये दिखाया है कि पार्टी और लोगों की भलाई के लिए त्याग करने का क्या मतलब होता है। अब सर्वसम्मति बनाने का वक्‍त है। हम एकजुट होंगे तो हमारा भविष्य और मजबूत होगा। ज्यादातर पार्टी कार्यकर्ता राहुल जी को पार्टी की अगुवाई करते हुए देखना चाहेंगे। उधर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि सोनिया गांधी को पार्टी का नेतृत्व जारी रखना चाहिए। हालांकि उन्‍होंने यह भी कहा है कि यदि सोनिया जी ने अपना मन बना लिया है तो राहुल गांधी को अध्यक्ष पद के लिए आगे आना चाहिए।

वहीं युवा कांग्रेस की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि सोनिया गांधी के नेतृत्व से पार्टी को मजबूती मिली है। सोनिया जी के त्याग के लिए हम सभी उनके ऋणी हैं। यदि कांग्रेस अध्यक्ष को लेकर कोई बदलाव होता है तो युवा कांग्रेस राहुल जी के साथ खड़ी है। युवा कांग्रेस ने कहा है कि ऐसी स्थिति में राहुल जी को कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया जाए। यह भी कहा गया है कि ऐसे में जब देश मुश्किल दौर से गुजर रहा है, राहुल जी को युवाओं का नेतृत्‍व करना चाहिए। युवा कांग्रेस ने सोशल मीडिया में 'माई लीडर राहुल गांधी' हैशटैग से अभियान भी चलाया।

दूसरी ओर महाराष्ट्र कांग्रेस के नेताओं ने प्रस्ताव पारित कर कहा है कि सोनिया गांधी को पार्टी अध्यक्ष के रूप में कार्य जारी रखना चाहिए। प्रस्ताव में कहा गया कि यदि वह ऐसा करने से इनकार करती हैं तो राहुल गांधी को कांग्रेस अध्यक्ष का पदभार संभाल लेना चाहिए। पार्टी महासचिव मल्लिकार्जुन खड़गे के नेतृत्व में वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए हुई बैठक में यह प्रस्ताव पारित किया गया। असम कांग्रेस अध्यक्ष रिपु बोरा ने कहा है कि मैंने स्पष्ट रूप से सोनिया गांधी से राहुल को पार्टी का नेतृत्व देने की अपील की थी क्योंकि नरेंद्र मोदी केवल राहुल गांधी से ही डरते हैं। 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस