नई दिल्ली, एएनआइ। विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के राष्ट्रीय संयुक्त महासचिव सुरेंद्र जैन ने रविवार को कहा कि भारत ने 1947 में राजनीतिक स्वतंत्रता प्राप्त की लेकिन हमें राम मंदिर आंदोलन के माध्यम से धार्मिक और सांस्कृतिक स्वतंत्रता मिली।

'सब के राम' नामक पुस्तक के विमोचन पर जैन ने कहा, 'राम मंदिर आंदोलन के 490 वर्षों के लंबे विरोध के बाद। 13 करोड़ परिवारों ने राम मंदिर आंदोलन में भाग लिया। 1984 से 2019 तक 65 करोड़ लोगों ने राम मंदिर निर्माण में अपना सहयोग दिया।'

उन्होंने कहा, '1947 में, भारत को अपनी राजनीतिक स्वतंत्रता मिली। लेकिन राम मंदिर के लिए आंदोलन के माध्यम से, हमें अपनी धार्मिक और सांस्कृतिक स्वतंत्रता मिली। धर्मनिरपेक्ष राजनीति ने केवल राष्ट्र को विभाजित किया है।'

इस बीच, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के संयुक्त महासचिव अरुण कुमार ने कहा, 'राम मंदिर आंदोलन ने हिंदू समाज को जगाया और हिंदुओं के लिए आत्म-साक्षात्कार का क्षण बन गया।'

बता दें कि नवंबर 2019 में, सुप्रीम कोर्ट की पांच-न्यायाधीशों की पीठ ने सर्वसम्मति से राम लला के पक्ष में फैसला सुनाया था और कहा था कि 2.7 एकड़ में फैली पूरी विवादित भूमि सरकार द्वारा गठित एक ट्रस्ट को सौंप दी जाएगी, जो राम मंदिर के निर्माण की निगरानी करेगी।

Edited By: Nitin Arora