हैदराबाद, एएनआइ। गृह मंत्री अमित शाह ने रविवार को कहा कि हैदराबाद को निजाम संस्कृति से मुक्ति मिलनी चाहिए। हम इससे मुक्ति दिलाएंगे और लोकतांत्रिक तरीके से शहर को आधुनिक बनाएंगे। उन्होंने यहां विपक्ष पर जमकर हमला बोला। कहा, जब हम देश में अवैधरूप से रह रहे बांग्लादेशियों और रोहिंग्या पर कार्रवाई करते हैं तो विपक्ष हायतौबा और शोर मचाने लगता है। उन्होंने कहा कि आल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन (एआइएमआइएम) अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी लिखकर दें कि इनको बाहर करो तो फिर देखिए केंद्र सरकार क्या कार्रवाई करती है।

हैदराबाद नगर निगम चुनाव प्रचार के अंतिम दिन ओवैसी के गढ़ में बोले गृह मंत्री

हैदराबाद नगर निगम चुनाव प्रचार के अंतिम दिन यहां एक रोड शो के बाद संवाददाता सम्मेलन में गृह मंत्री ने कहा कि जब भी संसद में या टीवी चैनलों में बांग्लादेशियों और रोहिंग्या के मामलों पर चर्चा होती है तो वे लोग उनका पक्ष लेने लगते हैं। जनता सब जानती है। जब मैं कार्रवाई करता हूं तो वे संसद में चिल्लाने लगते हैं। क्या आपने इनको हायतौबा मचाते नहीं देखा। उनसे कहिए कि वे हमें लिखकर दें कि अवैधरूप से रह रहे इन लोगों को देश से बाहर करो तो मैं इसे करूंगा। चुनावों में केवल बयानबाजी से कुछ नहीं होता।

शाह ने यह बात ओवैसी के उस बयान के बाद कही जिसमें उन्होंने कहा था कि यदि रोहिंग्या अवैधरूप से रह रहे हैं तो गृह मंत्री कर क्या रहे हैं। उन्होंने कहा कि सरदार पटेल के कारण हैदराबाद और आसपास के इलाके भारत के साथ जुड़े, लेकिन जिन्होंने उस दौरान पाकिस्तान जाने की मुहिम चलाई थी ऐसी निजाम संस्कृति से हम हैदराबाद को निजात दिलाना चाहते हैं। शाह ने कहा, हम हैदराबाद को नवाब-निजाम कल्चर से मुक्त कराते हुए इसे आधुनिक शहर बनाना चाहते हैं। हैदराबाद को डाइनेस्टी से डेमोक्रेसी, भ्रष्टाचार से पारदर्शिता और तुष्टीकरण से विकास की ओर ले जाना चाहते हैं।

हम बनाएंगे हैदराबाद को आइटी हब

उन्होंने कहा कि हैदराबाद में आइटी हब बनने की पूरी संभावना है। हम इसे आइटी हब बनाएंगे। अभी नगर निगम में तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) तथा कांग्रेस का गठजोड़ इसमें सबसे बड़ी बाधा है। शाह ने विश्वास जताया कि इस बार शहर का मेयर भाजपा से होगा।

हैदराबाद में किया रोडशो

नगर निगम चुनाव प्रचार के अंतिम दिन रविवार को गृह मंत्री हैदराबाद पहुंचे और ओल्ड सिटी में भाग्यलक्ष्मी मंदिर में पूजा-अर्चना की। उन्होंने मंदिर में देवी मां की आरती भी की। इसके बाद शाह ने सिकंदराबाद के वारसीगुडा में रोड शो किया। इसमें लोगों की भारी भीड़ उमड़ी।

चर्चा में आया भाग्यलक्ष्मी मंदिर

एक दिसंबर को होने जा रहे नगर निगम चुनावों में शहर के पुराने इलाके में ऐतिहासिक चारमिनार के पास स्थित यह मंदिर एक बार फिर चर्चा में आ गया। इलाके में एक विशेष समुदाय के लोगों की संख्या ज्यादा है। इससे यह संवेनशील मुद्दा बन गया है। हैदराबाद में चुनाव प्रचार की शुरुआत गृह मंत्री ने मंदिर में आरती से की।

गौरतलब है कि हैदराबाद में स्थानीय निकाय चुनावों को लेकर राज्य में सत्तारूढ़ पार्टी, तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस), एआइएमआइएम और बीजेपी के बीच कड़ा मुकाबला देखने को मिल रहा है। भाजपा शहर में चुनाव अभियान चला रही है और इस दौरान पार्टी के कई हाइ प्रोफाइल नेता भी देखे गए हैं। उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के अलावा केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर, स्मृति ईरानी और पार्टी अध्यक्ष जे पी नड्डा ने हैदराबाद में चुनाव प्रचार किया। 150 सदस्यीय जीएचएमसी के लिए एक दिसंबर को चुनाव होना है और वोटो की गिनती चार दिसंबर को होगी।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021