अहमदाबाद, राज्य ब्यूरो। आरक्षण व कर्जमाफी की मांग को लेकर 25 अगस्त से उपवास कर रहे हार्दिक पटेल को सोला सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पाटीदार समिति ने कहा कि उपचार के साथ उपवास जारी रहेगा। हार्दिक की मांगों को लेकर सरकार व पाटीदार संस्थाओं के प्रमुखों की बैठक में पेंच फंस गया है, पर सरकार ने कहा सभी के लिए दरवाजे खुले हैं। 

इस बीच, हार्दिक ने ट्वीट किया है अनिश्चितकालीन उपवास आंदोलन के चौदवें दिन आज मेरी तबीयत बिगड़ने की वजह से मुझे अहमदाबाद की सोला सरकारी अस्पताल में भर्ती किया है। श्वास लेने में तकलीफ हो रही है और किडनी पर नुकसान बता रहे हैं। अभी तक भाजपा वाले किसान और समुदाय की मांग को लेकर तैयार नहीं हैं। 

पाटीदार आरक्षण आंदोलन समिति के संयोजक हार्दिक पटेल को शुक्रवार शाम उपचार के लिए अहमदाबाद के अस्पताल में भर्ती कराया। 6 डॉक्टर की टीम उनकी सतत निगरानी कर रही है। पाटीदार समिति के प्रवक्ता मनोज पनारा ने बताया कि श्वांस में तकलीफ, किडनी व लीवर के खराब होने की आशंका तथा कोमा में जाने से बचाने के लिए हार्दिक का उपचार शुरू किया है। इससे पहले खोडलधाम ट्रस्ट के अध्यक्ष नरेश पटेल ने हार्दिक से मिलकर सरकार से वार्ता की बात कही, लेकिन खोडलधाम व उमियाट्रस्ट के पदाधिकारियों में मतभेद उभर आए हैं, उमिया धाम ट्रस्टियों का लगता है कि हार्दिक व नरेश पटेल दोनों ने उनकी उपेक्षा की है। 

अब सरकार के साथ पाटीदार नेताओं की बैठक को लेकर भी संशय बना हुआ है। मुख्यमंत्री विजय रूपाणी शनिवार सुबह पार्टी की बैठक में शामिल होने के लिए दिल्ली जाने वाले हैं तथा उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल विदेश दौरे पर हैं, वे सोमवार को वापस लौटेंगे। ऊर्जा मंत्री सौरभ पटेल ने कहा कि पाटीदार समाज की 6 संस्थाओं के ट्रस्टियों का हार्दिक व उनकी टीम ने अपमान किया है, खोडलधाम ट्रस्टी ने सरकार से वार्ता की कोई पहल नहीं की तथा हार्दिक अपने साथियों की सलाह पर भर्ती हुए हैं, उनको पूरी चिकित्सकीय सुविधा दी जा रही है।

ऊर्जा मंत्री ने कांग्रेस पर राजनीति करने का आरोप लगाते हुए कहा कि पाटीदारों को आरक्षण देने के मामले में कांग्रेस क्यों अपना रुख स्पष्ट नहीं कर रही है। कांग्रेस ने हार्दिक के समर्थन में सभी 25 जिलों में 24 घंटे के उपवास का कार्यक्रम रखा है।

हार्दिक की हालत गंभीर
सोला सिविल अहमदाबाद में दो दिन उपचार के बाद हार्दिक पटेल को बेंगलुरु के जिंदल अस्पताल में ले जाया जा सकता है। उनके करीबी डॉ के अनुसार हार्दिक हाई रिस्क पर हैं तथा उनकी हालत काफी गंभीर बनी हुई है। अस्पताल में सुरक्षा के मद्देनजर स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप की टीम तैनात की गई है, हार्दिक को भर्ती कराने खुद क्राइम ब्रांच के संयुक्त पुलिस आयुक्त जे के भट्ट मौजूद थे।

अल्पेश की जमानत पर 12 को सुनवाई
राजद्रोह के मामले में जेल में बंद सूरत के पाटीदार नेता अल्पेश कथीरिया की जमानत अर्जी पर 12 सितंबर को सुनवाई होगी। उनके वकील रफीक लोखंडवाला ने बताया सैशंस कोर्ट के न्यायाधीश दिलीप महीडा के समक्ष सरकार ने जांच अधिकारी की उपलब्धता नहीं होने के चलते समय देने की मांग की।
 

Posted By: Manish Negi