गोधरा (गुजरात), एएनआइ। भारत और पाकिस्तान के बीच ट्रेन सेवाओं पर रोक लगने से गुजरात के गोधरा इलाके के लगभग 80 लोग पाकिस्तान में फंस गए हैं। इन लोगों के रिश्तेदारों ने केंद्र सरकार से मामले का संज्ञान लेने और उनके परिवार के सदस्यों को भारत लाने में मदद करने का आग्रह किया है।

बता दें कि दोनों देशों के बीच 1972 में हुए शिमला समझौते के बाद 1976 से सप्ताह में दो बार समझौता एक्सप्रेस चलाई जाती थी। यह ट्रेन नई दिल्ली से लाहौर वाया अटारी सीमा होकर पाकिस्तान पहुंचती थी।

सामाजिक कार्यकर्ता हाजी फिरदौस ने कहा कि गोधरा के अल्पसंख्यक समुदाय के लगभग 80 लोग अपने रिश्तेदारों से मिलने पाकिस्तान गए थे। अनुच्छेद-370 के खत्म होने के बाद पाकिस्तान ने दोनों देशों के बीच चल रही ट्रेन सेवाओं पर प्रतिबंध लगा दिया, जिससे ये लोग वहीं फंसे हुए हैं। केंद्र सरकार से अनुरोध है कि इन लोगों को भारत लाने में मदद करें।

जमीयत उलेमा-ए-हिंद की गुजरात इकाई के उपाध्यक्ष मुहम्मद इदरीश ने बताया कि ये लोग सभी प्रक्रियाओं को पूरा करने के बाद पाकिस्तान गए थे। हम भारत सरकार से उन्हें वापस लाने का आग्रह करते हैं। गोधरा के तहसीलदार एचए पंजाबी ने कहा, 'हम इस बात की जांच कर रहे हैं कि कितने लोग पाकिस्तान गए हैं और कब वापस आना था। सारी जानकारी एकत्र करके जिलाधिकारी को दी जाएगी। इसके बाद इस संबंध में केंद्र सरकार को अनुरोध भेजा जाएगा।'

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021