नई दिल्‍ली, एजेंसी।राज्यसभा में 'पेगासस प्रोजेक्ट' रिपोर्ट पर बयान पढ़ने के दौरान आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव के साथ दुर्व्यवहार करने वाले टीएमसी सांसदों के खिलाफ केंद्र सरकार विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव लाएगी। केंद्र सरकार राज्यसभा  अध्‍यक्ष से टीएमसी सांसद शांतनु सेन को आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव के साथ दुर्व्यवहार करने के लिए निलंबित करने का अनुरोध करेगी। टीएमसी सांसद शांतनु सेन ने गुरुवार को आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव के बयान की कॉपी छीन ली, जब वह राज्यसभा में अपना भाषण दे रहे थे और उसके टुकड़े-टुकड़े कर दिए।

इससे पहले राज्यसभा में टीएमसी के सांसद शांतनु सेन द्वारा आईटी मंत्री के साथ दुर्व्यवहार पर संसदीय कार्य मंत्री प्रल्हाद जोशी, राज्यसभा में सदन के नेता पीयूष गोयल, आईटी मंत्री अश्विन वैष्णव, मंत्री धर्मेंद्र प्रधान और वी मुरलीधरन की बैठक हुई। जिसमें यह अहम फैसला लिया गया।

राज्यसभा की कार्यवाही गुरुवार को हंगामे की भेंट चढ़ गई। हंगामे के बाद राज्यसभा की कार्यवाही को कल तक के लिए स्थगित कर दिया गया है। जैसे ही इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव 'पेगासस प्रोजेक्ट' मीडिया रिपोर्ट पर बोलने के लिए उठे, विपक्षी सांसदों द्वारा सदन में हंगामे के बीच राज्यसभा को कल तक के लिए स्थगित कर दिया गया। आईटी मंत्री के साथ दुर्व्यवहार पर केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी और टीएमसी सांसद शांतनु सेन के बीच गरमागरम शब्दों का आदान-प्रदान हुआ।