नई दिल्ली, एएनआइ। अर्थव्यवस्था में मंदी को लेकर आलोचना झेलने वाली भाजपा बजट में आम लोगों की भलाई के लिए किए गए उपायों से लोगों को अवगत कराने का काम रविवार से शुरू करेगी। पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा के निर्देश पर लोगों को कल्याणकारी योजनाओं के बारे में बताया जाएगा। पार्टी की प्रदेश इकाइयों को राज्य स्तरीय कार्यशालाओं का आयोजन कर लोगों के साथ आम बजट पर चर्चा करने के लिए कहा गया है।

इन कार्यशालाओं का आयोजन 16 से 23 फरवरी के बीच सभी प्रदेश मुख्यालयों पर किया जाएगा। कार्यशाला में आर्थिक मामलों के जानकारों को भी बुलाने को कहा गया है।विपक्षी दलों ने बजट की आलोचना की है। विपक्ष का कहना है कि आम लोगों की मुश्किलों को कम करने के लिए बजट में कुछ भी नहीं कहा गया है। प्रेस कांफ्रेंस आयोजित करने को भी कहा गया है, जिसमें केंद्र और राज्य के एक-एक वक्ता शामिल होंगे। कार्यशालाओं के लिए पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव और पी. मुरलीधर राव को संयोजक बनाया गया है। 

किसानों की आय दोगुना करना सरकार का लक्ष्य

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने शनिवार को कहा कि सरकार बैंकों द्वारा कृषि क्षेत्र को दिए जा रहे ऋणों की स्थिति पर बराबर नजर रखे हुए है। उन्होंने उम्मीद जताई कि अगले वित्त वर्ष में कृषि क्षेत्र के लिए 15 लाख करोड़ रुपए के ऋण का लक्ष्य प्राप्त कर लिया जाएगा।

सरकार ने 2020-21 के आम बजट (Union Budget) में कृषि क्षेत्र के लिए ऋण वितरण का लक्ष्य 11 प्रतिशत बढ़ाकर 15 लाख करोड़ रुपये रखा है। बजट में कृषि और संबंधित क्षेत्रों की विविध योजनाओं के लिए 1.6 लाख करोड़ रुपए का आवंटन किया गया है। सरकार ने 2022 तक किसानों की आय दोगुना करने का महत्वाकांक्षी लक्ष्य रखा है। वह यहां भारतीय रिजर्व बैंक के निदेशक मंडल की बैठक के बाद संवाददाता सम्मेलन को संबोधित कर रही थीं।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस