नई दिल्‍ली, एएनआइ। मध्‍य प्रदेश में इस्‍तीफा देने वाले कांग्रेस के 22 पूर्व विधायक शनिवार को भाजपा में शामिल हो गए। ये नेता भाजपा अध्‍यक्ष जेपी नड्डा से मिलने उनके आवास पर पहुंचे और बीजेपी की सदस्‍यता ग्रहण की। इस मौके पर भाजपा नेता ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया भी मौजूद थे। भाजपा नेता ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया ने कहा कि हमारे 22 विधायक आज भाजपा में शामिल हो गए। सभी पूर्व विधायकों को भाजपा टिकट देगी। उन्‍होंने कहा कि भाजपा अध्‍यक्ष जेपी नड्डा ने सभी नेताओं को सदस्‍यता दिलाई। उन्‍होंने हमारा उत्‍साहवर्धन किया और सभी नेताओं को सम्‍मान देने की बात कही... 

गौरतलब है कि मध्‍य प्रदेश में कमलनाथ की सरकार गिरने के बाद दिल्‍ली में नेताओं का जमावड़ा लगा है। पूर्व मंत्री और विधायकों ने दिल्‍ली में डेरा डाल दिया है। नड्डा के आवास पर हुए इस कार्यक्रम से कुछ समय पहले ही सभी पूर्व विधायकों को विशेष विमान से दिल्ली लाया गया था। विधायकी से इस्तीफा देने वाले इन नेताओं में 18 सिंधिया समर्थक हैं, जबकि चार ने सरकार से नाराज होकर इस्तीफा दिया था। इनमें वरिष्ठ विधायक रहे बिसाहूलाल सिंह ने पहले ही भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर ली थी। कार्यक्रम में मौजूद सिंधिया ने सभी पूर्व विधायकों का नड्डा से परिचय कराया।

भाजपा की सदस्यता ग्रहण करने के कार्यक्रम में मौजूद केंद्रीय पंचायत राज एवं कृषि कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि मध्‍य प्रदेश में भाजपा के परिवार का विस्तार हो रहा है। तोमर ने कहा कि केंद्रीय मंत्री धर्मेद्र प्रधान, भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव अनिल जैन, कैलाश विजयवगीय, सांसद राकेश सिंह और विधायक अरविंद भदौरिया ने अपनी भूमिका का बेहतर ढंग से निर्वहन किया है। वहीं दिल्ली में मध्य प्रदेश के मुखिया के चयन को लेकर गहमागहमी भी देखी जा रही है। माना जा रहा है कि जल्‍द ही इस मसले पर फैसला हो सकता है। 

भाजपा सूत्रों का कहना है कि पार्टी के राष्ट्रीय नेता एवं केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, धर्मेद्र प्रधान, राष्ट्रीय महासचिव अनिल जैन और पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया जैसे नेताओं की मौजूदगी में विधायक दल के नेता का चुनाव किया जाएगा। हालांकि, भाजपा ने यह भी साफ कर दिया है कि सरकार बनाने को लेकर वह अभी कोई जल्दबाजी नहीं करना चाहती है। बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को मध्‍य प्रदेश की कमान सौंपने पर चर्चा होने की अटकलें हैं। हालांकि जब तक किसी नाम पर मुहर नहीं लग जाता... कयासों का दौर जारी रहने वाला है। 

इस बीच मध्य प्रदेश कांग्रेस ने ट्वीट करके दावा किया है कि भले ही कमलनाथ इस बार बाजी हार गए हों लेकिन आने वाले 15 अगस्त 2020 को वह एकबार फ‍िर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में ध्वजारोहण करेंगे। कांग्रेस ने कहा है कि यह ट्वीट संभालकर रखें। यह बेहद अल्प‍ विश्राम है। असल में आने वाले दिनों में मध्य प्रदेश में 24 सीटों पर उपचुनाव होने हैं। कांग्रेस ने इन उप चुनावों से उम्‍मीदें लगा रखी हैं। इस ट्वीट में उसने भाजपा को संकेत दिए हैं कि ज्‍यादा खुश होने की जरूरत नहीं है।

Posted By: Krishna Bihari Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस