नई दिल्ली, जागरण ब्यूरो। 2014 के लोकसभा चुनाव में इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) में छेड़छाड़ का बयान देकर सनसनी फैलाने वाले स्वयंभू साइबर हैकर सैयद शुजा के खिलाफ चुनाव आयोग ने दिल्ली पुलिस को एफआइआर दर्ज करने को कहा है।

सोमवार को शुजा ने लंदन में ईवीएम को लेकर दावे किए थे। जहां उसने 2014 के चुनाव नतीजों को लेकर सवाल उठाया था, वहीं मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की जीत का श्रेय खुद लिया था। आयोग ने दिल्ली पुलिस को लिखे पत्र में कहा है कि शुजा का यह दावा भारतीय दंड संहिता की धारा 505 (ए)(बी) का उल्लंघन है। इस धारा के तहत अगर कोई भी व्यक्ति ऐसा बयान देता है या अफवाह फैलाता है, जिससे समाज में भय और घबराहट का माहौल बनता है तो उसके खिलाफ सामाजिक शांति भंग करने या राज्य के खिलाफ अपराध करने का मामला दर्ज किया जा सकता है। आयोग ने इसी आधार पर शुजा के खिलाफ मामला दर्ज करने को कहा है और आयोग को इस मामले में कार्रवाई से अवगत कराने को कहा है।

आयोग ने पत्र में कहा है कि निर्वाचन आयोग ईवीएम के जरिये चुनाव कराता है। इनका निर्माण भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड और इलेक्ट्रॉनिक कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड ने किया है। इन मशीनों में सुरक्षा की पर्याप्त व्यवस्था है और इन मशीनों के लिए चुनाव आयोग की विश्व में तारीफ भी हुई है। चुनाव आयोग ने याद दिलाया कि सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्टो ने भी अपने कई फैसलों में ईवीएम के इस्तेमाल को जायज ठहराया है।

ईसीआइएल ने कहा, शुजा ने कंपनी में काम नहीं किया
ईवीएम बनाने वाली कंपनी इलेक्ट्रॉनिक कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (ईसीआइएल) ने शुजा के उन दावों की भी पोल खोलकर रख दी है जिसमें उसने खुद को इलेक्ट्रॉनिक कारपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड का पूर्व कर्मचारी बताया था। कंपनी ने आयोग को पत्र लिखकर साफ कर दिया है कि शुजा नाम का कोई भी व्यक्ति न तो ईवीएम विकसित करने वाली टीम का हिस्सा रहा है और न ही 2009 से 2014 के बीच इस व्यक्ति ने कंपनी में अपनी सेवाएं दी हैं।

Posted By: Manish Negi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप