जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। वित्तमंत्री अरुण जेटली की उम्मीद के मुताबिक प्रधानमंत्री का साक्षात्कार लेने वाली पत्रकार को रीढ़विहीन बताने पर एडीटर्स गिल्ड आफ इंडिया ने कड़ा एतराज जताया है। इसके साथ ही उनसे हाल के दिनों में पत्रकारों की विश्वसनीयता सवाल खड़ा करने और धमकाने की बढ़ती प्रवृति पर चिंता भी जताई है।

अरुण जेटली ने पत्रकार पर हमले को लेकर 'छद्म उदारवादियों' की चुप्पी पर सवाल उठाते हुए एडीटर्स गिल्ड की प्रतिक्रिया की उम्मीद जताई थी। एडीटर्स गिल्ड के अनुसार पत्रकारों को किसी विचारधारा या पार्टी से चस्पा करके उसकी विश्वसनीयता पर संदेह खड़ा करने और उन्हें धमकाने का राजनीतिक सत्ता प्रतिष्ठानों का नया हथकंडा बन गया।

हाल के दिनों में भाजपा और आप के बड़े नेताओं की ओर पत्रकारों के लिए 'प्रेस्टिच्यूट' 'न्यूज ट्रेडर' 'बाजारू' 'दलाल' जैसे अभद्र भाषा का प्रयोग किया जाता रहा है। एडीटर्स गिल्ड ने पत्रकारों के साथ इस तरह के बर्ताव को तत्काल बंद करने की जरूरत बताया है।

Posted By: Ravindra Pratap Sing

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस