रायपुर, नईदुनिया छत्तीसगढ़ के सियासी हलके में कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विश्वविद्यालय, रायपुर के कुलपति के नाम को लेकर शुक्रवार को हलचल तेज हो गई। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की पत्नी अमृता सिंह का नाम सामने आने के बाद तरह-तरह की चर्चाओं का दौर शुरू हो गया। बताया जा रहा है कि मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के राजनीतिक गुरु होने के कारण अमृता सिंह के नाम की चर्चा ब्यूरोक्रेसी में भी रही। राज्यपाल की कुलपतियों के साथ बैठक में यह मुद्दा आया। इन चर्चाओं के बीच देर शाम अमृता सिंह ने फेसबुक पर इसे चंडूखाने की गप्प करार दिया।

अमृता सिंह ने कहा है एक खबर बहुत जोरों से चलायी गई है कि मैंने एक आवेदन दिया है और छत्तीसगढ़ के राज्यपाल से कहा है कि मुझे एक विश्वविद्यालय की वाइस चांसलर बना दें। पिछले साल मैंने सुना था कि मैं तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के खिलाफ चुनाव लड़ने जा रही हूं। बाद में कभी लोकसभा चुनाव, तो कभी मेयर की लाइन में भी मुझे खड़ा कर दिया गया। यहां सब कुछ होता रहता है, बस मुझे ही खबर नहीं होती कि मैं क्या करने जा रही हूं।

मध्य प्रदेश-छत्तीसगढ़ की मीडिया के ज्यादातर साथी मेरे व्यक्तिगत संपर्क में रहते हैं। अक्सर बात भी करते रहते हैं, लेकिन जाने क्यों मेरे खुद के मामलों में अंतरयामी बन जाते हैं। मैंने न कोई आवेदन किया है, न ही कोई ऐसा पद मांगने या ग्रहण करने की संभावना है। ये खबर सिर्फ और सिर्फ उस फेक दिव्यदृष्टि का कमाल है, जो तथ्य से परे गप्प गढ़ भी लेती है और प्रचारित कर भी देती है। उन्होंने कहा कि इसमें कुछ भी सच्चाई नहीं है।

यह भी पढ़ेंः दिग्विजय सिंह ने व्यापम घोटाले और हनीट्रैप स्कैंडल पर दिया बड़ा बयान, जानिए

यह भी पढ़ेंः दिग्विजय सिंह का विवादित बयान, इस्लाम की तरह हिंदुओं की कट्टरता भी खतरनाक

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस