ग्वालियर, राज्य ब्यूरो। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने शनिवार को सोशल मीडिया पर कांग्रेस छोड़कर भाजपा में गए 22 पूर्व विधायकों का रेट कार्ड जारी किया है। इसमें पूर्व विधायकों के फोटो के साथ उनका नाम, 2018 में मिले मतों की संख्या दी है। दिग्विजय सिंह ने इस ट्वीट में 35 करोड़ की राशि में कुल मिले मतों की संख्या का भाग देकर एक वोट की कीमत निकाली है।

दिग्विजय सिंह ने बताया- 22 पूर्व विधायकों ने जनता का वोट कितने में बेचा

दिग्विजय सिंह ने इस ट्वीट के माध्यम से आरोप लगाया कि जनता का मत इन लोगों ने इतनी कीमत में बेचा है। सुबह से दिग्विजय सिंह का यह ट्वीट बहुत वायरल हो रहा है। ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने दिग्विजय सिंह पर पलटवार करते हुए कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री को पहले इस बात का हिसाब देना चाहिए कि उपचुनाव लड़ाने के लिए उन्होंने प्रत्याशी कितने में खरीदे हैं? प्रदेश के मुख्यमंत्री का दायित्व संभालते हुए उन्होंने बसपा के विधायकों को कितने रुपये में खरीदा था?

प्रदेश की जनता के साथ गद्दारी तो कांग्रेस ने की

प्रद्युम्न सिंह तोमर ने कहा कि लोग जानते हैं कि कांग्रेस ने प्रदेश की जनता के हितों पर डाका डाला है। विधानसभा चुनाव में प्रदेश की जनता को चेहरा ज्योतिरादित्य सिंधिया का दिखाया और मुख्यमंत्री वृद्ध (कमल नाथ) को बना दिया। इन लोगों ने प्रदेश की जनता के साथ गद्दारी की है। दिग्विजय सिंह को जनता से अपील करने का कोई अधिकार नहीं है क्योंकि उपचुनाव में लोग अपने अपमान का बदला लेने के लिए तैयार बैठे हैं।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस