नई दिल्‍ली (आइएएनएस)। लोकसभा में आठवें दिन बुधवार को भी विपक्षी पार्टियों व कुछ भाजपा सहयोगियों द्वारा जारी हंगामे के बीच बिना चर्चा के 2018 के वित्त विधेयक, 94,61,524 करोड़ रुपये की सभी मंत्रालयों तथा विभागों की अनुदान मांगें और संबंधित विनियोग विधेयक को पारित कर दिया।

हाल के वर्षों में यह पहला मौका है जब किसी भी मंत्रालय की अनुदान मांगों और वित्त विधेयक को सदन में बिना चर्चा के पारित किया गया है। इसके अलावा लोकसभा में बिना चर्चा के ही वित्त विधेयक और विनियोग विधेयक 2018 को भी मंजूरी दे दी गई। बता दें कि विभिन्न मंत्रालयों और विभागों की 99 मांगों को ‘गिलोटिन’ के जरिये मंजूरी दी गई। ।

इसके बाद वित्त और विनियोग विधेयक 2018 को राज्यसभा को भेजा जाएगा। चूंकि यह धन विधेयक है, ऐसे में राज्यसभा में इनके 14 दिन में मंजूर नहीं होने की स्थिति में भी इन्हें पारित माना जायेगा। उसके बाद इन्हें राष्ट्रपति की मंजूरी के लिये भेजा जायेगा। लोकसभा में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने वित्त एवं विनियोग विधेयक 2018 पेश किया।

Posted By: Monika Minal