नई दिल्‍ली, जेएनएन। संसद परिसर में आज भी टीडीपी सांसदों ने विरोध प्रदर्शन किया। इधर राफेल मामले में जेपीसी की मांग कर रहे कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने सदन की कार्यवाही शुरू होने से पहले कहा कि अगर बोफोर्स और 2जी स्‍प्रेक्‍ट्रम मामले में जेपीसी गठित हो सकती है, तो राफेल मामले में ऐसा क्‍यों नहीं हो सकता है। इसके बाद हंगामे के चलते लोकसभा की कार्यवाही स्थगित करनी पड़ी। इधर हंगामे के चलते राज्यसभा की कार्यवाही कल तक के लिए स्थगित कर दी गई। इससे पहले सुबह सीपीआई (एम) और कांग्रेस पार्टी ने लोकसभा में क्रमशः राफेल लड़ाकू विमान सौदे और नोटबंदी के मुद्दे पर स्थगन प्रस्ताव नोटिस दिया।

लोकसभा में शून्यकाल के दौरान भाजपा के पोन राधाकृष्णन ने सबरीमला मंदिर जाने वाले श्रद्धालुओं को पेश आने वाली परिवहन संबंधी दिक्कतों का मुद्दा उठाया। भाजपा सांसद संजय जायसवाल ने मध्य प्रदेश में बेरोजगारी से जुड़े मुख्यमंत्री कमलनाथ के बयान का मुद्दा बुधवार को लोकसभा में उठाया और कहा कि कमलनाथ लोकसभा के सदस्य हैं, उनका बयान सदन की भावना के खिलाफ है और ऐसे में उन्हें खुद सदन में आकर माफी मांगनी चाहिए।

लोकसभा की कार्यवाही जब 12 बजे के बाद दोबारा शुरू हुई, तब गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि सरकार राफेल लड़ाकू विमान के मुद्दे पर चर्चा के लिए तैयार है। खड़गे ने कहा कि राफेल पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला गलत तथ्यों पर आधारित है। इसके बाद एआइएडीएमके सांसदों ने नारेबाजी और हंगामा शुरू कर दिया, जिसके बाद लोकसभा की कार्यवाही को दोपहर 2 बजे तक के लिए स्‍थगित कर दिया गया।

संसद का शीतकालीन सत्र भी हंगामे की भेंट चढ़ता दिख रहा है। मंगलवार को लोकसभा की कार्यवाही शुरू होने के साथ ही केंद्र सरकार के सांसदों और विपक्ष के नेताओं ने जमकर नारेबाजी की। सरकार की तरफ से राफेल और सिख दंगों को लेकर राहुल गांधी माफी मांगो के नारे लगाए जा रहे थे, वहीं विपक्ष भी आक्रामक अंदाज में नजर आया। टीएमसी सांसद जहां महंगाई मुद्दे को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे, तो कांग्रेस ने भी राफेल की जेपीसी मांग का मुद्दा जोर-शोर से उठाया। 

राफेल सौदे पर चल रही सियासी तकरार सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद और बढ़ गई है। सदन में भाजपा ने राफेल और 1984 के दंगों को लेकर हंगामा जारी रहा। कांग्रेस जेपीसी की मांग कर रही थी, वहीं भाजपा का कहना है कि वे मुद्दे पर पहले चर्चा करना चाहते हैं। दोनों ओर से हंगामा बढ़ता देख लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने सदन की कार्यवाही को बुधवार तक के लिए स्थगित कर दिया था। इधर राज्यसभा में भी मंगलवार को जमकर हंगामा हुआ जिसके बाद 2 बजे तक के लिए सदन को स्थगित करना पड़ा। राज्यसभा की कार्रवाई 2 बजे के बाद फिर दिन भर के लिए स्थगित कर दी गई।

जेपीसी की मांग पर स्पीकर सुमित्रा महाजन ने कांग्रेस से कहा कि इसकी गारंटी नहीं दे सकती, लेकिन चर्चा करवा सकती हैं। इस पर कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने चर्चा को लेकर सहमति जताई है। वहीं, भाजपा की ओर नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि सरकार भी चर्चा के लिए तैयार है।

Posted By: Tilak Raj

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप