नई दिल्ली, जागरण ब्यूरो। कोरोना काल में भारत ने जिस तरह से दक्षिण एशियाई देशों के अलावा दूसरे देशों को कई तरह की मदद उपलब्ध कराई है वह अभी आगे भी जारी रहेगी। सबसे पहले ब्राजील के लिए भारत निर्मित वैक्सीन कोविशील्ड की आपूर्ति की जा रही है। ब्राजील के लिए 20 लाख टीकों की एक खेप शुक्रवार को मुंबई से रवाना होगी। ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो ने पीएम नरेंद्र मोदी को पत्र लिख कर इसकी मांग की थी। 

दूसरे देशों को वैक्सीन देने की रणनीति अगले कुछ दिनों में

वैसे भारत अपनी पूरी वैक्सीन उत्पादन क्षमता व घरेलू मांग की समीक्षा कर रहा है और आपूर्ति शुरू होने पर नेपाल, बांग्लादेश, श्रीलंका, भूटान समेत दूसरे पड़ोसी देशों को वैक्सीन आपूर्ति में प्राथमिकता देगा। इस बारे में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव से पूछा गया तो उनका जवाब था कि, जहां तक विदेशों को आपूर्ति करने की बात है तो आप सभी को यह स्मरण होगा कि पीएम मोदी ने कहा है कि भारत की कोरोना वैक्सीन निर्माण क्षमता पूरी मानवता के लिए है। वैसे भारत में अभी निर्माण शुरू ही हुआ है, दूसरे देशों को कब से आपूर्ति शुरू होगी, यह कहना तो मुश्किल है लेकिन हम उत्पादन और उसकी क्षमता का आकलन कर रहे हैं। इसमें कुछ वक्त लग सकता है।

उत्पादन का किया जा रहा आकलन, पड़ोसी देशों को प्राथमिकता

उधर, ब्राजील के विदेश मंत्रालय की तरफ से बताया गया कि वह भारत की सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की तरफ से निर्मित कोविशील्ड वैक्सीन की 20 लाख टीके खरीद रहा है। वैक्सीन मिलने के बाद राष्ट्रीय स्तर पर टीकाकरण अभियान शुरू किया जाएगा। टीके की खेप शनिवार को ब्राजील पहुंच जाएगी। उधर, सूचना है कि शुक्रवार को भारत और नेपाल के विदेश मंत्रियों के बीच होने वाली बैठक में नेपाल को वैक्सीन देने की संभावनाओं पर बात होगी। 

पीएम मोदी ने बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना को भी भरोसा दिलाया है कि वैक्सीन आपूर्ति में उसे प्राथमिकता दी जाएगी। जहां तक भारत में कोरोना वैक्सीन की उपलब्धता का सवाल है तो कोविशील्ड बनाने वाली एसआइआइ ने हाल ही में कहा है कि 10 जनवरी, 2021 तक उसके पास 10 करोड़ टीकों का निर्माण हो चुका है। 31 जनवरी, 2021 तक अतिरिक्त सात करोड़ टीकों का निर्माण हो जाएगा। 

भारत ने इस कंपनी से 1.1 करोड़ डोज खरीदने का आर्डर दिया है। दूसरी तरफ 54 लाख टीके भारत बायोटेक से खरीदने का आर्डर दिया गया है। भारत में शनिवार से जो टीकाकरण अभियान शुरू करने जा रहा है पहले चरण में शुरुआत में तीन लाख लोगों को टीके रोजाना दिया जाएगा। अगले कुछ दिनों में पांच लाख लोगों को रोजाना टीका लगेगा। इस तरह से मौजूदा हिसाब किताब से यह लग रहा है कि भारत के पास अभी पर्याप्त स्टाक है। लेकिन सरकार दूसरे देशों को इसकी आपूर्ति शुरू करने से पहले सभी तथ्यों पर विचार करेगी।

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021