नई दिल्ली, प्रेट्र।Coronavirus, कोरोना संकट के बीच विदेश मंत्री एस जयशंकर ने बुधवार को स्पेन के विदेश मंत्री अरंचा गोंजालेज के साथ टेलीफोन पर बातचीत की। इस बातचीत के दौरान दोनों नेताओं ने इस बात पर सहमति जताई की कि प्रभावी कोरोना वायरस के खिलाफ प्रभावी प्रतिक्रिया के लिए वैश्विक सहयोग की आवश्यकता है।दोनों विदेश मंत्रियों के बीच बातचीत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और स्पेन के प्रधानमंत्री पेड्रो सांचेज पेरेज-कास्टजॉन द्वारा COVID-19 के प्रकोप से उत्पन्न स्थिति पर विचार-विमर्श के बाद हुई।

जयशंकर ने एक ट्वीट में कहा कि स्पेन के प्रधानमंत्री अरंचा गोंजालेज के साथ टेलीफोन पर बातचीत हुई। हम इस बात से सहमत थे कि कोरोना वायरस के खिलाफ प्रभावी प्रतिक्रिया के लिए वैश्विक सहयोग की आवश्यकता है। भारत ने स्पेन की तत्काल दवा आवश्यकता के लिए सकारात्मक प्रतिक्रिया दी है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री के मुताबिक भारत में कोरोना वायरस के कुल मामलों की संख्या गुरुवार को बढ़कर 5,734 हो गई, जबकि मरने वालों की संख्या 166 पहुंच गई है।विश्व स्तर पर इस वायरस ने 75,000 से अधिक लोगों की जान ली है और इससे 13 लाख से अधिक लोग संक्रमित हैं।

स्पेन में 757 और लोगों की मौत

स्पेन में पिछले चौबीस घंटे में 757 लोगों की मौत हुई है। इस तरह देश में मृतकों की संख्या 14,555 हो गई है। एक दिन पहले 743 लोगों की मौत हुई थी। संक्रमित लोगों का आंकड़ा 140,510 से बढ़कर 146,690 हो गया है। स्पेन में महामारी की स्थिति को इससे समझा जा सकता है कि लोगों को अपने प्रियजनों के अंतिम संस्कार के लिए एक सप्ताह तक इंतजार करना पड़ रहा है। कब्रिस्तान के एक पादरी के मुताबिक बुरे दिनों में 10-15 शव आते थे, लेकिन अब इनकी संख्या 40 के लगभग हो गई है। उधर, इंडस्ट्री से जुड़े सूत्रों के मुताबिक अगर देश में लॉकडाउन मई से आगे बढ़ता है तो इससे अर्थव्यवस्था ना केवल बुरी तरह प्रभावित होगी, बल्कि लगभग आठ लाख लोग बेरोजगार होंगे।

Posted By: Shashank Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस