जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। कोरोना वायरस का फैलाव रोकने के लिए रविवार को 'जनता कर्फ्यू' लागू करने की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर अमल करने की देश ने पूरी तैयारी कर ली है। राज्य सरकारों ने जहां जरूरी दिशा-निर्देश जारी किए हैं वहीं तमाम सरकारी-निजी संगठनों ने अपने स्तर पर जनता कर्फ्यू को कामयाब करने की कमर कस ली है। रेलवे ने आधी रात 12 बजे के बाद चलने वाली सभी ट्रेनें स्थगित कर दी हैं। दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, कोलकाता जैसे महानगरों में मेट्रो व नगरीय ट्रेन सेवाएं भी नहीं चलेंगी।

भारत आने और जाने वाली सभी नियमित अंतरराष्ट्रीय उड़ानें स्थगित

इस दिशा में बड़ा कदम उठाते हुए शनिवार आधी रात 12 बजे से भारत आने और जाने वाली सभी नियमित अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को स्थगित कर दिया गया है। आवश्यक सेवाओं से जुड़े लोगों मसलन चिकित्सा, पुलिस, मीडिया और आनलाइन डिलेवरी कर्मियों को उनके काम की अनिवार्यता को देखते हुए जनता कर्फ्यू से छूट मिलेगी।

पीएम की अपील पर लोगों ने जनता कर्फ्यू को ऐतिहासिक बनाने की ठानी

प्रधानमंत्री ने एक बार फिर लोगों से बिना वजह बाहर निकलने से बचने के साथ कोरोना के खिलाफ जंग में उनकी छोटे-छोटे कदमों की भी अहम भूमिका बताई है। वैसे नागरिकों ने भी शनिवार को बाजारों, दफ्तरों और आवाजाही में बेहद कमी लाते हुए जनता कर्फ्यू को ऐतिहासिक बनाने की अपनी इच्छाशक्ति का संदेश दे दिया। पीएम नरेंद्र मोदी ने गुरूवार को कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने की देश की सबसे बड़ी पहल के लिए रविवार सुबह सात बजे से रात नौ बजे तक 14 घंटे के जनता कर्फ्यू को लागू करने का एलान किया था।

जनता कर्फ्यू- कोरोना के खिलाफ जंग में भारत का निर्णायक कदम

कोरोना का संक्रमण एक दूसरे की निकटता की वजह से न फैले इसके मद्देनजर जनता कर्फ्यू इस वायरस के खिलाफ जंग में भारत का निर्णायक कदम माना जा रहा है। सरकार और तमाम विशेषज्ञों का आकलन है कि कोरोना संक्रमित लोगों से दूरी बनाकर भारत इस महामारी पर विजय पा सकता है और अगले 15 दिन इस लिहाज से बेहद अहम हैं। पीएम ने नागरिकों से 15 से 30 दिनों तक इस दिशा में उनका सहयोग मांग इस ओर इशारा कर भी दिया था।

3700 ट्रेनें 22 मार्च रात दस बजे तक नहीं चलेंगी

जनता कर्फ्यू पर अमल करते हुए रेलवे ने पहले ही 3700 ट्रेनें 21 मार्च की आधी रात से स्थगित कर दीं जो 22 मार्च रात दस बजे तक नहीं चलेंगी। कोरोना वायरस का संक्रमण अधिकांश विदेश से आने वाले यात्रियों की वजह से देखने को मिला है। इसीलिए आधी रात 12 बजे से भारत ने अपने यहां आने और जाने वाली सभी उड़ानों को एक हफ्ते के लिए रोक दिया है।

अंतर्राष्ट्रीय फ्लाइट को एक सप्ताह तक स्थगित, भारत ने पूरी दुनिया से अपना संपर्क काटा

इस लिहाज से भारत ने पूरी दुनिया से अपना संपर्क एक तरह से काट लिया है। अब केवल विदेशों में फंसे भारतीयों को लाने के लिए आने-जाने वाली विशेष उड़ानों के अलावा किसी अंतर्राष्ट्रीय फ्लाइट को एक सप्ताह तक उतरने की इजाजत नहीं होगी। जनता कर्फ्यू के लिए कई निजी एयरलाइनों ने भी रविवार को अपनी उड़ानों में काफी कमी कर दी है।

नेपाल और पाकिस्तान से लगी सड़क सीमाएं बंद

इसी तरह भारत ने नेपाल और पाकिस्तान से लगी अपनी सड़क सीमाओं को भी बंद कर दिया है। नेपाल के लिए केवल आवश्यक सेवाओं की आपूर्ति से जुड़े वाहनों को ही प्रवेश की छूट होगी।

दिल्ली मेट्रो रविवार को नहीं चलेंगी

दिल्ली मेट्रो की सेवाएं भी रविवार को नहीं चलेंगी और आवश्यक सेवाओं के अलावा देश के सभी महानगरों में भी उपनगरीय रेल सेवाएं बंद रहेंगी।

जनता कर्फ्यू: पीएम की अपील पर चौतरफा सकारात्मक पहल

जनता कर्फ्यू की पीएम की अपील पर चौतरफा सकारात्मक पहल दिख रही है। तमाम राज्यों सरकारों चाहे उत्तरप्रदेश, बिहार हो या पंजाब, छत्तीसगढ, महाराष्ट्र, केरल या दिल्ली सभी ने जनता कर्फ्यू को सफल बनाने के लिए अपनी-अपनी तरफ से कदम उठाने का एलान किया है।

दिल्ली में दिहाड़ी कामगारों को मुफ्त राशन, घरों में ही रहने की सलाह

दिल्ली ने जहां दिहाड़ी कामगारों को मुफ्त राशन देने और पांच से अधिक लोगों के इकठ्ठा होने पर पाबंदी की घोषणा की है। वहीं दूसरे सभी राज्यों ने लोगों से रविवार को अपने घरों में ही रहने और बाहर निकलने से बचने की सलाह दी है। निजी कंपनियों, व्यापारी संगठनों ही नहीं अधिकांश राजनीतिक दलों, बालीवुड हस्तियों से लेकर उद्योग जगत के प्रमुख चेहरों ने भी जनता कर्फ्यू का पूरा समर्थन करने का एलान किया है।

प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर कहा- घबराने की नहीं सतर्कता की जरूरत है

कोरोना की बढ़ती चुनौती को देखते हुए प्रधानमंत्री ने शनिवार को ट्वीट कर एक बार फिर कहा कि घबराने की नहीं सतर्कता की जरूरत है। यह समय अपने घर में रहने का है और अनावश्यक रुप से अपने शहर से बाहर भी नहीं जाना चाहिए।

छोटे-छोटे कदम भी कोरोना से लड़ाई में बेहद अहम साबित होंगे- पीएम

पीएम ने कहा कि नागरिकों के ये छोटे-छोटे कदम भी कोरोना से लड़ाई में बेहद अहम साबित होंगे। उन्होंने कहा कि यह ऐसा समय है जब हमें डाक्टरों और सरकारी एजेंसियों की सलाह माननी चाहिए। घर में ही कोरेंटाइन रहने की सलाह दिए जाने वाले लोगों से इसका पालन करने की पीएम ने सलाह दी। साथ ही कहा कि उनका यह कदम न केवल उनकी रक्षा करेगा बल्कि उनके परिवार और मित्रों की भी बचाएगा।

राज्यों को दिशा-निर्देश, जनता कर्फ्यू के दौरान लोग बाहर न निकलें- केंद्रीय गृह मंत्रालय

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने भी शनिवार को सभी राज्यों को दिशा-निर्देश जारी कर जनता कर्फ्यू के दौरान लोग बाहर न निकलें यह सुनिश्चित करने को कहा है। प्रधानमंत्री मोदी ने नागरिकों से कोरोना के खिलाफ लड़ाई में उनका सहयोग मांगते हुए जनता कर्फ्यू को कामयाब बनाने की अपील की थी। साथ ही नागरिकों से यह भी अनुरोध किया था कि कोरोना के खतरों की चुनौती के बावजूद आवश्यक सेवाओं में लगे डाक्टरों, चिकित्साकर्मियों, पुलिस, मीडिया, एयरलाइन और परिवहन सेवाओं से जुड़े लोगों के काम की सराहना करें।

जनता कर्फ्यू के दौरान पांच बार थाली या घंटी बजाएं

पीएम ने इसके लिए लोगों को रविवार शाम पांच बजे जनता कर्फ्यू के दौरान अपने घरों की बालकनी, दरवाजे या आंगन में आकर पांच बार थाली या घंटी बजाकर इस हालत में भी इनकी सेवाओं की सराहना करने की अपील की है। गृह सचिव अजय भल्ला ने राज्यों के मुख्य सचिवों को जारी दिशा-निर्देश में भी इसका जिक्र किया है। पुलिस, अग्निशमन विभाग, स्थानीय नगरीय निकायों, पंचायती राज संस्थाओं आदि सभी से पांच बजे सायरन बजाने को कहा गया है ताकि लोगों को इसकी याद दिलाई जा सके।

Posted By: Bhupendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस