नई दिल्‍ली [जागरण स्‍पेशल]। राहुल गांधी ने जर्मनी के बर्लिन में इंडियन ओवरसीज कांग्रेस के कार्यक्रम में एक बार फ‍िर अटपटा बोला है, इससे कांग्रेस पार्टी सांसत में है। यह पहली दफा नहीं जब राहुल अपने अटपटे बोल के चलते सुर्खियों में हैं। राहुल गांधी कई बार सेल्‍फ गोल के चलते सुर्खियों में रहे हैं। इन अटपटे बयानों को लेकर उनका मजाक उड़ाया गया। सोशल मीडिया पर उनके एेसे बयान खूब वायरल भी हुए। उनके अटपटे बयानों पर कांग्रेस के प्रतिद्वंद्वी दलों ने उनकी चुटकी भी ली। कई बार तो ऐसा भी हुआ है जब उनके बयानों से कांग्रेस पार्टी ही संकट में पड़ गई, ऐसे में पार्टी को सफाई भी पेश करनी पड़ी। तो चलिए आपको भी बताते हैं राहुल के वो अटपटे बोल जिसने हमेशा कांग्रेस की मुश्किलें बढ़ाई हैं.... 

1- 21वीं सदी में लोगों को बाहर रखना काफी खतरनाक है...
राहुल गांधी ने आईएसआईएस और विकास को लिंक करते हुए कहा - विकास प्रक्रिया से बड़ी संख्या में लोगों को बाहर रखने से दुनिया में कहीं भी आतंकवादी संगठन पैदा हो सकता है ... 21वीं सदी में लोगों को बाहर रखना काफी खतरनाक है ... अगर आप 21वीं सदी में लोगों को कोई विजन नहीं देते तो कोई ओर देगा और विकास प्रक्रिया से बड़ी संख्या में लोगों को बाहर रखने का यह असली खतरा है...

2- जब लोकसभा में मार दी आंख
मोदी सरकार के खिलाफ अविश्‍वास प्रस्‍ताव पर चर्चा के दौरान लोकसभा में अपने भाषण के बीच पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से गले मिले, इसके बाद वह अपनी सीट पर बैठते ही अपने एक कांग्रेसी सांसद को आंख मारकर हंस दिए...

3- हिंदुस्‍तान में वो ढाबा वाला दिखा दो जिसने कोकाकोला कंपनी बनाई हो...
दिल्ली में एक ओबीसी सम्मेलन के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष ने ओबीसी वर्ग के उत्थान को लेकर कोकाकोला कंपनी का उदाहरण दिया। इस दौरान राहुल गांधी बोले- यहां कोई ऐसा व्‍यक्ति है, जिसने कोेकाकोला कंपनी का नाम सुना हो... आप कोकाकोला कंपनी के बारे में जानते हैं, अब आप बताओं इसे किसने शुरू किया... कौन था ये, कोई जानता है... मैं आपको बताता हूं किसने इसको शुरू किया... चलो मैं अापको बताता हूं। कोकोकोला कपनी शुरू करने वाला एक शिकंजी बेचने वाला व्‍यक्ति था... वह अमेरिका में शिंकजी बेचता था... पानी में चीनी मिलता था... उसके हुनर का आदर हुआ, पैसा मिला और कोकाकोला कंपनी बनी..

मैकडोनाल्‍ड कंपनी का आपने नाम सूना होगा.. सब जगह दिखती है.. उसे चालू किसने किया, क्‍या करता था वो कोई बता सकता है... मैं बताता हूं, यह व्‍यक्ति ढाबा चलता था...ढाबा चलाता था.. आज मुझे हिंदुस्‍तान में वो  ढाबा वाला दिखा दो जिसने कोकाकोला कंपनी बनाई हो..कहां है वो

4- 2012 के आस-पास कांग्रेस बहुत घंमड में चूर थी...
केंद्र में मोदी सरकार आने के बाद राहुल गांधी अमेरिका गए और वहां  छात्रों को चुनाव में कांग्रेस की हार के कारणों को बताया- राहुल ने कहा- साल 2012 के आस-पास कांग्रेस बहुत घंमड में चूर थी... इसलिए पार्टी को नुकसान उठाना पड़ा.. तब कांग्रेस के दिग्‍गज नेताओं ने बहुत गलतियां की... नेताओं ने जनता से संवाद बंद कर दिया था। 

5- दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे... निकला गब्‍बर
मणिपुर में प्रचार के दौरान मोदी सरकार पर कटाक्ष करते हुए राहुल ने कहा - 'सोचा अच्छे दिन की पिक्चर चल रही है... 'दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे' ! लेकिन पता चला कि पिक्चर का नाम निकला 'शोले' और आ गए 'गब्बर सिंह।

6- कांग्रेस में एक भी नियम-कानून नहीं चलता..
कांग्रेस के एक कार्यक्रम में राहुल ने अपनी ही पार्टी के बारे अटपटा बयान दिया- कांग्रेस में एक भी नियम-कानून नहीं चलता... एक भी नियम-कानून इस पार्टी में नहीं है... हर दो मिनट में नए नियम बनाते हैं, पुराने दबा दिए जाते हैं... किसी को नहीं मालूम कि कांग्रेस पार्टी के नियम क्या हैं मजेदार संगठन है, कभी-कभी मैं पूछता हूं अपने आप से कि भैया ये पार्टी चलती कैसे है ?

7- आज हर जगह पॉलिटिक्स है...
एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान राहुल गांधी कहते है - आज हर जगह पॉलिटिक्स है... ये आपकी शर्ट में है, यह आपकी पैंट में है... हर जगह है ये पॉलिटिक्स....

यह भी पढ़ें -

अक्‍टूबर 2016 में तत्‍कालीन कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने पीएम नरेंद्र मोदी पर हमला करते हुए कहा कि वह सेना के खून के पीछे छिपकर दलाली कर रहे हैं। सेना को अपना काम करने दें और वह अपना काम करें।

जुलाई, 2016 में राहुल ने अपने भाषण में पीएम मोदी को 'अरहर मोदी' कहा था।

मार्च, 2016 में राहुल ने कहा जब पीएम नरेंद्र मोदी नवाज शरीफ से मिलने पाकिस्तान जाते हैं तो जम्मू-कश्मीर का काम खराब कर देते हैं। इसी दौरान उन्‍होंने 'फेयर एंड लवली' योजना का जिक्र किया था।

अप्रैल, 2015 में राहुल ने पीएम पर निशाना साधते हुए कहा था, यह सरकार बड़े लोगों वाली सूट-बूट की सरकार है।

वर्ष 2014 में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की जयंती पर दिल्ली में आयोजित कांग्रेस के महिला सम्मेलन में पार्टी उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी ने कहा, 'जो लोग आपको मां-बहन कहते हैं, मंदिर जाते हैं, देवी को पूजते हैं वही बस में महिलाओं को छेड़ते हैं'।

अक्‍टूबर 2013 में दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित दलित अधिकार सम्मेलन में दलितों के उत्थान पर राहुल गांधी का 'इस्केप वेलोसिटी' सिद्धांत वाला भाषण बेहद चर्चित रहा। उन्होंने कहा कि वो वेलोसिटी जो आपको एक ग्रह से स्पेस तक पहुंचने के लिए चाहिए, उसे इस्केप वेलोसिटी कहते हैं। इसके बाद उन्होंने कहा कि दलितों को ऊपर उठने के लिए धरती से कई गुना ज्यादा बृहस्पति ग्रह की 'इस्केप वेलोसिटी' जैसी ताकत की जरूरत है।

6 अगस्त, 2013 को इलाहाबाद के गोविन्द बल्लभ पंत सामाजिक विज्ञान संस्थान के कार्यक्रम में राहुल गांधी ने गरीबी को मानसिक स्थिति यानी दिमागी हालत करार दिया था। उनका कहना था कि गरीबी का खाना खाने, रुपये और भौतिक चीजों से कोई वास्ता नहीं है। उन्होंने कहा कि जब तक कोई शख्स खुद में आत्मविश्वास नहीं लाएगा तब तक वह गरीबी के मकड़जाल से बाहर नहीं निकल पाएगा।

राजस्थान के चुरु में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा था, कि भाजपाई मुजफ्फरनगर में आग लगा देंगे, यूपी, गुजरात और कश्मीर में आग लगा देंगे और फिर हमें और आपको वो आग बुझानी पड़ती है। इससे देश का फायदा नहीं बल्कि नुकसान होता है, लोग मरते हैं, इससे गुस्‍सा पैदा होता है।

16 अप्रैल, 2007 को एक कार्यक्रम में राहुल गांधी ने कहा, 'एक बार मेरा परिवार कुछ करने का फैसला कर ले तो उससे पीछे नहीं हटता है। फिर वह भारत की आजादी का मसला हो या फिर पाकिस्तान का बंटवारा या फिर भारत को 21वीं सदी में ले जाने की बात। राहुल गांधी इससे पहले गुजरात को यूनाइटेड किंगडम से बड़ा बताने से भी नहीं चूके। उन्होंने कहा कि अगर अमेरिका और यूरोप को मिला दें तो भी भारत उससे बड़ा है।

अगस्त 2013 राहुल गांधी ने कहा कि अगर देश कम्प्यूटर है, तो देश इसका डिफॉल्ट प्रोग्राम है में सोशल मीडिया पर कांग्रेस के वर्कशॉप के दौरान राहुल गांधी ने यह बयान दिया था।

भूल गए राहुल कैसे बना था ISIS, हम याद दिला देते हैं आतंकी संगठन का इतिहास
छत्तीसगढ़, राजस्थान और मध्य प्रदेश में क्या है कांग्रेस की इनसाइड स्टोरी आप भी जानिये
सत्‍यपाल मलिक को जम्‍मू कश्‍मीर का गवर्नर बनाने के पीछे क्‍या है केंद्र सरकार की मंशा
अंतरिक्ष में बजा भारत का डंका, पानी के बाद अब चंद्रयान ने की चांद पर बर्फ होने की पुष्टि
केरल में हुई तबाही की वजह जानकर चौंक जाएंगे आप, सिर्फ बारिश नहीं जिम्‍मेदार
वाजपेयी के एक रुख की वजह से अमेरिका के आगे बचने के लिए गिड़गिड़ाया था पाक 

Posted By: Kamal Verma