नई दिल्ली, जागरण ब्यूरो। जम्मू-कश्मीर के विवादित डीएसपी देवेंद्र सिंह की गिरफ्तारी को सांप्रदायिक रंग देने को लेकर कांग्रेस और भाजपा में नई जंग शुरू हो गई है। लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने 'देवेंद्र सिंह' के 'देवेंद्र खान' होने की स्थिति में संघ की ट्रोल रेजिमेंट की और भी तीखी प्रतिक्रिया की आशंका जताई, तो भाजपा ने पलटवार करते हुए कहा कि आतंकवाद पर धर्म की राजनीतिक करना हमेशा से कांग्रेस की संस्कृति रही है।

वहीं पुलवामा आतंकी हमले की जांच नए सिरे से करने की कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला की मांग पर हैरानी जताते हुए भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कांग्रेस पर भारत की पीठ में खंजर घोपने और पाकिस्तान की तरफदारी करने का आरोप लगाया।

दरअसल आतंकियों के साथ गिरफ्तारी के बाद देवेंद्र सिंह की संसद से लेकर पुलवामा हमले तक में भूमिका को लेकर आशंका जताई जा रही है। जम्मू-कश्मीर पुलिस समेत केंद्रीय एजेंसियां तक इसकी जांच में जुटी हैं। लेकिन कांग्रेस ने मंगलवार को इसे धर्म से जोड़ते हुए नया मोड़ दे दिया। यही नहीं, सुरजेवाला ने पुलवामा हमले की दोबारा जांच की मांग कर इसके पीछे भारतीय एजेंसियों के हाथ होने की आशंका को हवा देने की कोशिश की। उन्होंने कहा था कि देवेंद्र केवल मोहरा है। इस तरह कांग्रेस ने खुद ही भाजपा को हमला करने का मौका दे दिया।

अधीर रंजन चौधरी और रणदीप सुरजेवाला के बयान की निंदा करते हुए संबित पात्रा ने कहा कि आतंकी हमले का इस तरह राजनीतिकरण अशोभनीय है। उनके अनुसार पिछले कई मामले इस बात को साबित करते हैं कि कांग्रेस लगातार पाकिस्तान को बचाने और भारत पर हमला करने की कोशिश करती रही है। उन्होंने हैरानी जताई कि किस तरह कांग्रेस पुलवामा हमले को फिर से जीवित कर पाकिस्तान को क्लीन चिट देने की कोशिश कर रही है। उन्होंने राहुल गांधी और सोनिया गांधी को पुलवामा हमले पर स्थिति साफ करने की चुनौती दी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को सीधे तौर पर ऐलान करना चाहिए कि उन्हें देश की सेना और सरकार पर भरोसा नहीं है। उन्हें यह बताना चाहिए कि अगर पुलवामा हमले के पीछे पाकिस्तान नहीं है तो कौन है?

अधीर रंजन के ट्वीट पर भड़की भाजपा ने कहा कि हिंदू आतंकवाद से लेकर भारत के हिंदू पाकिस्तान बन जाने और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को हिंदू जिन्ना बताने जैसे बयान से साबित होता है कि कांग्रेस हमेशा से आतंक को धार्मिक रंग देने का प्रयास करती रही है। उन्होंने बाटला हाऊस एनकाउंटर पर कांग्रेस के रवैये और मुंबई हमले के बाद दिग्विजय सिंह के इसे आरएसएस की साजिश बताने के बयान का भी हवाला दिया। पात्रा ने राहुल गांधी के उस बयान का हवाला दिया, जिसमें उन्होंने कहा था कि उन्हें सिमी या इस्लामिक आतंकवाद से डर नहीं है, बल्कि हिंदुओं से डर है। पात्रा ने कहा कि कांग्रेस का पूरा प्रपंच जनता के सामने खुलकर सामने आ गया है।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस