नई दिल्ली, पीटीआई। कर्नाटक में बुधवार को कांग्रेस ने 6,000 रुपये प्रति वोट संबंधी टिप्पणी पर सख्त रुख अपनाया। पार्टी ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा, मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई और विधायक रमेश जरकिहोली के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। बता दें कि कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष डी के शिवकुमार और विधायक दल के नेता सिद्धरमैया ने पुलिस से यह मामला दर्ज करने और जांच कराने का अनुरोध किया है।

6 हजार रुपये प्रति वोट का विवादित बयान

आपको बता दें कि कांग्रेस ने यह शिकायत गोकाक के भाजपा विधायक जरकीहोली द्वारा मई में विधानसभा चुनाव में 6 हजार रुपये प्रति वोट की घोषणा के बाद दर्ज कराई गई है।

भाजपा की राज्य इकाई ने विधायक के इस बयान किया किनारा

यौन स्कैंडल में कथित तौर पर शामिल होने के बाद 2021 में मंत्री पद से इस्तीफा देने के लिए मजबूर जरकिहोली ने हाल ही में बेलगावी की एक रैली में कहा कि अगर कांग्रेस का कोई मौजूदा विधायक 3 हजार रुपये तक का उपहार और नकद देता है तो वह मतदाताओं को 6 हजार रुपये देंगे। हालांकि भाजपा की राज्य इकाई ने विधायक के इस बयान से किनारा कर लिया।

भाजपा विधायक रमेश जारकिहोली की घोषणा

22 जनवरी, 2023 को भाजपा के वरिष्ठ नेता, पूर्व कैबिनेट मंत्री और भाजपा विधायक रमेश जारकिहोली ने कर्नाटक के बेलगावी में घोषणा की कर कहा, 'भाजपा आगामी विधानसभा चुनावों में प्रत्येक मतदाता को 6,000 रुपये प्रति वोट देगी।' यह घटना कैमरे में कैद हो गई, कांग्रेस द्वारा की गई शिकायत में यह बात कही गई है।

आगामी चुनावों में वोट मांगने वाले मतदाता

बयान में कहा गया है कि वीडियो फुटेज में रमेश जारकिहोली को स्पष्ट रूप से देखा और सुना जा सकता है कि भाजपा की ओर से आगामी चुनावों में वोट मांगने वाले मतदाताओं को 6 हजार रुपये प्रति वोट दिया जा सकता है। बता दें कि शिवकुमार और सिद्धरमैया ने यहां हाई ग्राउंड पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई थी।

कांग्रेस का आरोप

कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि मुख्यमंत्री और विधायक दल के नेता भाजपा बोम्मई, नड्डा और पार्टी के राज्य प्रमुख नलिन कुमार कटील की सहमति से यह भाजपा में उच्चतम स्तर पर रची गई साजिश का हिस्सा है।

कांग्रेस ने कहा कि यह जाहिर है कि मतदाताओं को रिश्वत देने के इस संगठित डिजाइन के पीछे भाजपा नेताओं का एक समूह है। भारतीय दंड संहिता 1860 की धारा 171बी, 107, 120बी, 506 के तहत स्पष्ट रूप से यह एक आपराधिक मामला है। यह जनप्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 की धारा 123 (1) के प्रावधानों के अनुसार, मतदाताओं को रिश्वत की पेशकश भी है।

मतदाताओं को लुभाने की साजिश: कांग्रेस

कर्नाटक में करीब पांच करोड़ मतदाता होने का जिक्र करते हुए कांग्रेस ने आरोप लगाया कि भाजपा नेता चुनाव जीतने के लिए 30 हजार करोड़ रुपये बांटकर मतदाताओं को लुभाने की साजिश रच रहे हैं। इससे पता चलता है कि भाजपा नेताओं ने मतदाताओं को रिश्वत देने और चुनाव का अपहरण करने के लिए 30,000 करोड़ रुपये से अधिक का गलत इस्तेमाल किया है।

यह भी पढ़ें- घने कोहरे वाले दिन 154% तक बढ़ेंगे, क्लाइमेट चेंज के चलते उत्तर भारत में बढ़ेगी मुश्किल

यह भी पढ़ें- Fact Check: धीरेंद्र शास्त्री को Z+ सिक्योरिटी दिए जाने का बीबीसी के ट्वीट का स्क्रीनशॉट फेक है

Edited By: Ashisha Singh Rajput

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट