मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। कांग्रेस ने जम्मू-कश्मीर में पीडीपी के साथ मिलकर सरकार बनाने की अटकलों को सिरे से खारिज करते हुए सूबे में यथाशीघ्र चुनाव कराने की मांग की है। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की अध्यक्षता में जम्मू-कश्मीर पर कांग्रेस की उच्चस्तरीय समूह की हुई बैठक में हालात की समीक्षा के बाद पार्टी ने यह राजनीतिक नजरिया तय किया। जम्मू-कश्मीर की प्रभारी अंबिका सोनी ने बैठक के बाद साफ कहा कि पीडीपी के साथ मिलकर सरकार बनाने की खबरें निराधार हैं।

पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की अगुआई में पार्टी के कश्मीर समूह ने की हालात की समीक्षा

अंबिका ने यह भी कहा कि पार्टी की कश्मीर समूह की इस बैठक में गठबंधन या सरकार बनाने जैसे मसले पर चर्चा भी नहीं हुई। मनमोहन सिंह के आवास पर हुई बैठक में पूर्व गृहमंत्री पी चिदंबरम, डा कर्ण सिंह, गुलाम नबी आजाद, अंबिका के अलावा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गुलाम अहमद मीर भी मौजूद थे। इस बैठक में राज्य में राज्यपाल शासन लगाने के बाद के हालातों के साथ सूबे में कांग्रेस कार्यकर्ताओं की राजनीतिक चुनौतियों की समीक्षा की गई। इसमें तय हुआ कि अंबिका खुद सूबे का दौरा कर कार्यकर्ताओं से रुबरू होंगी। इसी तरह पार्टी नेता कारगिल और लेह-लद्दाख जाकर भी कार्यकर्ताओं की मुश्किलों का समाधान निकालने का प्रयास करेंगे।

अंबिका के बाद कांग्रेस ने आधिकारिक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान भी पीडीपी के साथ फिलहाल सियासी दोस्ती की संभावनाओं को नकार दिया। पार्टी प्रवक्ता अभिषेक सिंघवी ने कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार ने जम्मू-कश्मीर के हालात को सत्यानाश तक पहुंचा दिया है। अब वे चाहते हैं कि कांग्रेस सरकार बना ले तो हम इतने मूर्ख नहीं हैं।

सिंघवी ने कहा कि सूबे में तत्काल चुनाव होने चाहिए और हिम्मत है तो केंद्र तत्काल चुनाव कराये। पीडीपी नेता पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती की यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात के अनुरोध की खबरों से जुड़े सवाल पर सिंघवी ने कहा कि ऐसी कोई मेल मुलाकात होती भी है तो इसका सरकार बनाने से कोई सरोकार नहीं होगा।

Posted By: Bhupendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप