अहमदाबाद, शत्रुघ्न शर्मा। नोटबंदी को लेकर अपने बयान के चलते मानहानि का केस झेल रहे कांग्रेस के निवर्तमान अध्यक्ष राहुल गांधी शुक्रवार को अहमदाबाद की कोर्ट में हाजिर हुए। राहुल ने अदालत में कहा मैं गुनहगार नहीं, मुझे आरोप कबूल नहीं। अदालत ने उन्हें 15 हजार के बांड पर जमानत पर छोड़ दिया। केस की अगली सुनवाई सात सितंबर को होगी।

अहमदाबाद डिस्‍ट्रिक्ट बैंक के चेयरमैन अजय पटेल ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी के खिलाफ एक याचिका दाखिल कर आरोप लगाया था कि राहुल ने नोटबंदी के बाद चुनावी सभाओं में एडीसी बैंक में हजार व पांच सौ के नोट बड़ी मात्रा में जमा होने का आरोप लगाया था। करीब एक सप्ताह में 745 करोड़ रुपये जमा होने का आरोप लगाया, जिसे अदालत में चुनौती दी थी। अजय पटेल ने आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए इसे बैंक की प्रतिष्ठा को धूमिल करने वाला बताया था। कोर्ट के समन पर राहुल शुक्रवार दोपहर मेट्रोपॉलिटन मजिस्टेट एमबी मुंशी के समक्ष पेश हुए।

राहुल ने मजिस्‍ट्रेट के समक्ष कहा कि उन्हें अपराध कबूल नहीं है, मैं गुनहगार नहीं हूं। गुजरात कांग्रेस अध्यक्ष अमित चावडा उनके जमानत दार बने। कोर्ट ने राहुल को 15 हजार के बांड पर जमानत पर छोड़ दिया।

इससे पहले बैंक की ओर से वकील एसवी राजू ने कहा कि मामला गंभीर है, इसलिए जमानत के बिना इस केस में आरोपित को नहीं छोड़ना चाहिए। राहुल के वकील चांपानेरी ने अदालत के सामने पक्ष रखा तथा नियमित जमानत की गुहार लगाई।

पेशी से पहले राहुल गांधी का भव्य स्वागत, गुजराती भोजन किया
कोर्ट में हाजिरी से पहले कांग्रेस नेता व कार्यकर्ताओं ने राहुल का एयरपोर्ट से अदालत तक भव्य स्वागत किया। प्रदेश अध्यक्ष चावडा के अलावा गुजरात कांग्रेस प्रभारी राजीव सातव, नेता विपक्ष परेश धनाणी, पाटीदार नेता हार्दिक पटेल व सैकड़ों कार्यकर्ता एयरपोर्ट पर स्वागत करने पहुंचे थे। कोर्ट में हाजिरी से पहले राहुल ने गुजराती भोजन किया तथा रिवरफ्रंट रोड से होते हुए कोर्ट पहुंचे। अदालत से जमानत के बाद राहुल ने शाहीबाग एनेक्सीर में कांग्रेस विधायकों के साथ बैठक कर विधायकों की नाराजगी व संगठन के पुनर्गठन के मुद्दों पर चर्चा की।

गौरतलब है कि विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस में शामिल हुए ठाकोर नेता अल्पेश ठाकोर व उसके साथी विधायक धवल सिंह झाला ने लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस छोड़ दी थी। कुछ और विधायकों के प्रदेश आलाकमान के साथ नाराजगी की अटकलें हैं।

गौरतलब है कि मानहानि के दो अन्‍य मामलों में राहुल को 16 जुलाई को सूरत व नौ अगस्‍त को अहमदाबाद आना है। लोकसभा चुनावों के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी के अदालती चक्कर बढ़ गए हैं। तत्कालीन भाजपा अध्यक्ष अमित शाह व मोदी सरनेम को लेकर उनके बयानों के आधार पर गुजरात की दो अदालतों में उनके खिलाफ मामले दायर किए गए थे। लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा था कि सभी चोरों के सरनेम मोदी क्यों हैं। उनके इस बयान के खिलाफ समस्त गुजराती मोढ मोदी समाज के नेता और भाजपा विधायक पूर्णेश मोदी ने सूरत में मानहानि का मुकदमा दायर किया था।

Posted By: Tilak Raj

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप