मुंबई, एएनआइ। कांग्रेस पार्टी को इस चुनावी मौसम के दौरान महाराष्ट्र में एक बड़ा झटका लगा है। जानकारी अनुसार कांग्रेसी नेता राधाकृष्ण विखे पाटिल ने गुरुवार को महाराष्ट्र विधानसभा के नेता विपक्ष पद से इस्तीफा दे दिया। पार्टी ने उनका इस्तीफा स्वीकार भी कर लिया है। गौरतलब है कि पाटिल के पुत्र सुजय विखे पाटिल कुछ समय पहले सीएम देवेंद्र फड़नवीस की मौजूदगी में भाजपा में शामिल हो गए थे।

इसे लेकर पाटिल ने कहा था कि उनके पुत्र सुजय ने भाजपा में शामिल होने से पहले उनसे सलाह नहीं ली थी। कांग्रेस नेतृत्व मुझसे जो भी करने को कहेगा, मैं उसका पालन करूंगा। राधाकृष्ण का अहमदनगर और शिरडी लोकसभा क्षेत्रों पर उनका अच्छा प्रभाव है।

सुजय पाटिल पिछले दो साल से अहमदनगर से चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे थे। वह कांग्रेस से उम्मीदवारी चाहते थे, लेकिन बंटवारे में यह सीट राकांपा के पास चली गई। राकांपा यह सीट कांग्रेस से बदलने को तैयार नहीं हुई, बल्कि उसने सुजय को अपनी पार्टी के चिह्न पर चुनाव लड़ने का प्रस्ताव दिया, लेकिन, पवार की विखे परिवार से पुरानी प्रतिद्वंद्विता के कारण सुजय पाटिल ने राकांपा के चिह्न पर चुनाव लड़ने की बजाय भाजपा में शामिल होना बेहतर समझा। हालांकि, भाजपा के दिलीप गांधी अहमदनगर से 2009 से सांसद हैं।

पहले से थीं अटकले
सुजय पाटिल ने भाजपा में शामिल होने का कदम अपने पिता की मर्जी के विरुद्ध उठाया था। हालांकि, राजनीतिक हलके में तभी से यह चर्चा थी कि राधाकृष्ण भी ज्यादा दिनों तक कांग्रेस में नहीं टिकेंगे। 

 

Edited By: Tanisk