जयपुर [जागरण संवाददाता]। पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना को लेकर एक बार फिर सियासी बयानबाजी की गई है। इस बार कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के राष्ट्रीय अध्यक्ष नदीम जावेद ने कहा कि जिन्ना खुद को मुसलमान कहते थे, लेकिन वह कर्म से मुसलमान नहीं थे। नदीम ने सीधे शब्दों में नहीं, मगर अप्रत्यक्ष तौर पर यह भी कह दिया कि जिन्ना की वजह से ही देश के टुकड़े हो गए। उन्होंने रविवार को राजस्थान की राजधानी जयपुर में सामाजिक समरसता सम्मेलन को संबोधित करते हुए उक्त बयान दिया।

दरअसल, नदीम धर्म के नाम पर पाकिस्तान बनाने से उसकी सफलता पर सवाल उठा रहे थे। इसी दौरान उन्होंने जिन्ना को लेकर टिप्पणी की । उन्होंने कहा कि जिन्ना दाढ़ी नहीं रखते थे। वह शराब पीते थे । जिन्ना कहते थे कि कुरान में इस्लाम के बारे में जो कुछ लिखा गया है, वह जाहिल मुसलमानों को डराने के लिए लिखा गया है।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में पिछले दिनों पहले जिन्ना प्रकरण पर खूब सियासत हो चुकी है। अब राजस्थान विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस नेता ने जिन्ना से जुड़ा मुद्दा उठाया है । नदीम ने कहा कि जिन्ना ने अपने से 20 साल छोटी अपने दोस्त की बेटी से शादी की थी। जिन्ना ने धर्म के नाम पर हिंदुस्तान में मूवमेंट खड़ा किया और फिर ¨हदुस्तान के दो टुकड़े हो हुए। इसके बाद पाकिस्तान बना । उन्होंने कहा कि 1947 में धर्म के नाम पर पाकिस्तान जरूर बन गया, लेकिन 1971 में भाषा के नाम पर पाकिस्तान के दो टुकड़े हो गए। इसलिए यह समझने की जरूरत है कि धर्म के नाम पर देश नहीं चल रहा है।

Posted By: Vikas Jangra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस