नई दिल्ली, एजेंसी। गोवा में आगामी विधानसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस (TMC) की जीत की रणनीति तैयार करने वाले चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने कहा कि 'जीत हो या हार राजनीति के केंद्र में भाजपा ही रहेगी।' उन्होंने कांग्रेस के शासन वाले चालीस सालों का जिक्र भी किया और कहा कि उसी तरह भाजपा भी अभी कहीं नहीं जा रही है। इसपर  अलका लांबा समेत कई कांग्रेस नेताओं ने अपनी प्रतिक्रियाएं दी हैं।  

गोवा में वोटों का बंटवारा करने आई है TMC- चोडांकर

प्रशांत किशोर के बयान के बाद टीएमसी की आलोचना करते हुए गोवा प्रदेश कांग्रेस समिति के प्रमुख गिरिश चोडांकर ने ट्वीट कर कहा कि पिछले एक महीने से टीएमसी गोवा में आई है। मैंने हमेशा कहा है कि टीएमसी को गोवा भेजने में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) का हाथ है। अब उनके रणनीतिकार, जिनकी सेवा पैसे का भुगतान करके ली गई है, उन्होंने आशंकाओं की पुष्टि कर दी है। उन्होंने कह दिया है कि भाजपा यहीं नहीं रुकेगी। गोवा में टीएमसी वोटों का बंटवारा करने आई है, ताकि भाजपा को फायदा मिल जाए। टीएमसी के एजेंडा का भंडाफोड़ हो गया है।

प्रशांत किशोर ने लिए हैं पैसे, कांग्रेस नेता का आरोप

कांग्रेस नेता ने कहा कि प्रशांत किशोर न तो नेता हैं, न ही उनकी कोई विचारधारा है। जो भी पैसे का भुगतान कर उनकी सेवा लेता है, वह उसके साथ काम करते हैं। उन्होंने कहा कि पूर्व कांग्रेस राहुल गांधी पर प्रहार इस बात को साबित करता है। कांग्रेस की एक अन्य स्थानीय नेता राखी प्रभुदेसाई नाईक ने ट्वीट कर कहा कि अगर टीएमसी के रणनीतिकार सोचते हैं कि भाजपा कहीं नहीं जा रही है तो उनकी पार्टी को बोरिया-बिस्तर बांधकर गोवा छोड़ देना चाहिए। वोट बांटने के बजाय उन्हें बंगाल जाना चाहिए। नहीं तो इससे पुष्टि होती है कि यहां उनकी मौजूदगी भाजपा का खेल है।

अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर अलका लांबा ने एक वीडियो पोस्ट किया है जिसमें उन्होंने कहा है, 'सवालिया निशान कांग्रेस पर नहीं बल्कि देश के करोड़ों लोगों पर खड़ा किया जा रहा है, मैं महसूस करती हूं कि कांग्रेस का मजबूत संगठन/कुशल नेतृत्व ही BJP को सत्ता से बाहर कर देश को एक बार फिर प्रगति और उन्नति की राह पर आगे ले जा सकता है।' अलका लांबा ने जोर देकर कहा कि यह वही कांग्रेस पार्टी है जिसने 40 सालों तक भाजपा को सत्ता से दूर रखा।

वहीं भाजपा प्रवक्ता राज्यवर्धन सिंह राठौर ने प्रशांत किशोर के बयान का समर्थन किया और कहा कि उन्होंने ऐसा कुछ नया नहीं कहा बल्कि देश इस बात से वाकिफ है। साथ ही उन्होंने कांग्रेस नेता राहुल गांधी को निशाने पर लेते हुए कहा कि निश्चित तौर पर उनकी राय जुदा होगी। पार्टी प्रवक्ता राठौर ने कहा राहुल गांधी ने देश की आवाज नहीं सुनी और न भविष्य में सुनने वाले हैं।

इससे पहले भी लखीमपुर खीरी की घटना को लेकर प्रशांत किशोर ने अपनी टिप्पणी से कांग्रेस के नेताओं को नाराज कर दिया था जिसके बाद उनपर कई कांग्रेस नेताओं ने जोरदार हमला किया था। कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने तो उन्हें कंसल्टेंट का उपनाम तक दे दिया था और कहा कि वह किसी ‘कंसल्टेंट’ की टिप्पणी पर कोई प्रतिक्रिया नहीं देंगे।

Edited By: Monika Minal