नई दिल्‍ली, एएनआइ। तिहाड़ जेल में बंद पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम से मिलने में शुक्रवार को कांग्रेस नेताओं का प्रतिनिधिमंडल असफल रहा। दरअसल, शुक्रवार को जब तक कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल जेल पहुंची तब तक कैदियों से मुलाकात का समय समाप्‍त हो चुका था।

 

चिदंबरम से मिलने गए प्रतिनिधिमंडल में मुकुल वासनिक, पीसी चाको मनिक्‍कम टैगोर, अविनाश पांडे व कई अन्‍य नेता शामिल थे।

प्रतिनिधिमंडल ने जेल सुपरिटेंडेंट से मिलकर चिदंबरम का हाल लिया। प्रतिनिधिमंडल के एक सदस्‍य ने बताया कि वे चिदंबरम से मिलने कांग्रेस की अंतरिम अध्‍यक्ष सोनिया गांधी के कहने पर गए थे।

चिदंबरम की ओर से विशेष सीबीआइ अदालत में तीन आवेदन पेश करके जेल के अंदर जेड-सिक्योरिटी सुरक्षा देने, अलग सेल में रखने, उनके डॉक्टरों द्वारा सुझाई गई दवाइयां और अपना चश्मा ले जाने, बुजुर्ग होने के कारण पाश्चात्य शैली के टॉयलेट की सुविधा उपलब्ध कराने की मांग की गई। अदालत ने सभी बिंदुओं पर गौर करने के बाद इन सुविधाओं की अनुमति दे दी। पी. चिदंबरम को जिस जेल संख्या सात में रखा गया है, उसे 18 से 20 वर्ष के आयु वर्ग में आने वाले कैदियों के लिए बनाया गया है। अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर से जुड़े मामले में आरोपित रतुल पुरी को भी जेल संख्या सात में ही रखा गया था।

INX media case: कोर्ट ने पी चिदंबरम को जेल भेजने का आदेश दिया, 19 सितंबर तक रहेंगे तिहाड़ में

दिल्ली की जेलों में हर दिन मिलते हैं दो मोबाइल फोन, इस जेल में चलती है कैदियों की मनमानी

Posted By: Monika Minal

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस