रायपुर, जेएनएन। अपने ऊटपटांग बयानों की वजह से सुर्खियां बटोरने वाले छत्तीसगढ़ के आबकारी मंत्री कवासी लखमा लालू यादव का एक पुराना विवादास्पद बयान देकर मुश्किल में फंस गए हैं। कवासी ने भाजपा सांसद और अभिनेत्री हेमा मालिनी को लेकर पिछले दिनों एक कार्यक्रम में टिप्पणी की थी। इसके बाद वे भाजपा महिला मोर्चा के घेरे में आ गए हैं। बुधवार को छत्तीसगढ़ में महिला मोर्चा कार्यकर्ताओं ने कवासी लखमा के बयान की आलोचना करते हुए उनके खिलाफ प्रदर्शन किया। 

दसअसल सोमवार को कवासी लखमा धमतरी जिले के कुस्र्द विधानसभा क्षेत्र में आयोजित एक आबादी पट्टा वितरण कार्यक्रम में पहुंचे थे। उन्होंने यहां प्रदेश की सड़कों पर चर्चा करते हुए कहा कि उनके विधानसभा क्षेत्र कोटा की सड़कें हेमा मालिनी के गाल जैसी चिकनी हैं। जबकि कुरूद क्षेत्र की सड़के गड्ढ़ों से भरी पड़ी हैं।

भाजपा महिला कार्यकर्ताओं ने सोशल मीडिया में किया ट्रोल

इधर भाजपा ने इस बयान को कांग्रेसी संस्कार बताते हुए तंज कसा है। इसके बाद कवासी के बयान की जमकर आलोचना होने लगी। भाजपा की महिला कार्यकर्ताओं ने उन्हें सोशल मीडिया पर भी जमकर ट्रोल किया। बुधवार को मंत्री कवासी लखमा के बयान पर भाजपा महिला मोर्चा ने मोर्चा खोलते हुए विरोध प्रदर्शन किया।

एफआईआर दर्ज करने की मांग

राजधानी में सिटी कोतवाली पहुंचकर महिला कार्यकर्ताओं ने मंत्री के खिलाफ अशोभनीय टिप्पणी को लेकर एफआईआर दर्ज करने की मांग की। इसके साथ ही महिला मोर्चा सदस्यों ने जमकर नारेबाजी भी की। यहीं मंत्री लखमा का पुतला दहन करने की कोशिश की गई। मौके पर मौजूद पुलिस ने पुतले को जब्त कर भीड़ को तितर-बितर किया। 

बता दें कि कई वर्ष पूर्व बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव ने भी हेमा मालिनी को लेकर इसी तरह की टिप्पणी की थी। इस टिप्पणी के बाद लालू यादव की जमकर आलोचना हुई थी और उन्हें बाद में अपने इस बयान के लिए माफी भी मांगनी पड़ी थी। 

Posted By: Dhyanendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस