गोरखपुर, जेएनएन। केंद्रीय सामाजिक न्याय और आधिकारिता राज्यमंत्री व रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया के अध्यक्ष रामदास अठावले ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून मुसलमानों का विरोधी नहीं है। भारत में रहने वाले मुस्लिम समुदाय के लोगों को किसी के उकसावे में नहीं आना चाहिए। यह कानून पड़ोसी देशों से शरण के लिए भारत आए हिन्दू, जैन, बौद्ध, सिख, पारसी और ईसाई लोगों को भारतीय नागरिकता देने से संबंधित है। यह किसी के साथ अन्याय करने वाला कानून नहीं है।

मुसलमानों को डरने की जरूरत नहीं

रामदास अठावले कुशीनगर के साखोपार में आयोजित एक कार्यक्रम में शामिल होने के बाद लौटते समय यहां होटल पथिक निवास में 'जागरण' से विशेष बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कानून से भारतीय मुसलमानों को डरने की जरूरत नहीं है। पूर्वोत्तर राज्यों में वहां के मूल निवासी इस कानून के बारे में ठीक से समझ ही नहीं रहे हैं, इसलिए विरोध कर रहे हैं।

शांतिपूर्ण विरोध करें

प्रत्येक भारतीय को देश के किसी भी राज्य में रहने का अधिकार है। यदि किसी को विरोध करना है तो विरोध शांतिपूर्ण ढंग से होना चाहिए।  एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र सरकार में गठबंधन नैसर्गिक नहीं है। सावरकर को लेकर शिवसेना व कांग्रेस में मतभेद बढ़ता जा रहा है। सावरकर का शिवसेना बचाव कर रही है और कांग्रेस विरोध में है।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप