नई दिल्ली, जेएनएन। समाजवादी पार्टी से भाजपा में शामिल हुए नरेश अग्रवाल का पूर्व में विवादों से गहरा नाता रहा है। अपने अजीबो-गरीब बयान से वह कई मौकों पर फजीहत करा चुके हैं। मगर भाजपा ने शुरुआत में ही अपना रुख स्‍पष्‍ट कर दिया है कि किसी भी तरह का अनुचित बयान स्‍वीकार नहीं किया जाएगा। खास तौर से महिलाओं के खिलाफ, फिर चाहे वो किसी भी पार्टी से जुड़ी ही क्‍यों ना हों।

नरेश अग्रवाल के खिलाफ भाजपा का यह सख्‍त रुख जया बच्‍चन पर किए गए उनके विवादित बयान से जुड़ा है, जिसको लेकर भाजपा की महिला ब्रिगेड ने उनके खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज के बाद अब भाजपा की दो और कद्दावर महिला नेता ने नरेश अग्रवाल के बयान पर कड़ा एतराज जताया है।

वहीं इस बीच विवाद बढ़ता देख नरेश अग्रवाल ने इस पर खेद व्‍यक्‍त किया है। उन्‍होंने मीडिया से बातचीत में कहा कि अगर मेरी किसी बात से किसी को ठेस पहुंची है तो मैं खेद व्‍यक्‍त करता हूं।

यह भी पढ़ेंः जहां सत्ता वहां नरेश अग्रवालः 38 साल में चार दल और एक अपनी पार्टी

दरअसल, भाजपा में शामिल होने के तुरंत बाद ही नरेश अग्रवाल ने मीडिया से बातचीत में जया बच्‍चन पर विवादित टिप्‍पणी कर पार्टी को असहज कर दिया। सपा कोटे से राज्यसभा की रेस में जया बच्चन से परास्त हुए नरेश अग्रवाल ने उनकी तुलना 'नाचने-गाने वाली' से कर विवाद पैदा कर दिया। हालांकि भाजपा ने तुरंत इस बयान से किनारा कर लिया।



वहीं विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज ने ट्विटर के माध्‍यम से भाजपा में शामिल होने को लेकर नरेश अग्रवाल का स्‍वागत करने के साथ ही जया बच्‍चन पर दिए गए विवादित बयान को लेकर कड़ा विरोध भी जताया। उन्‍होंने ट्वीट करते हुए लिखा, 'नरेश अग्रवाल जी भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए हैं, उनका स्वागत है। मगर जया बच्चन जी के विषय में उनकी टिप्पणी अनुचित और अस्वीकार्य है।'

इसके बाद केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने भी विरोध जताते हुए कहा कि जब भी किसी महिला के खिलाफ अनुचित टिप्‍पणी की जाएगी तो हम सभी एकजुट होकर विरोध करेंगे। उन्‍होंने संजय निरूपम द्वारा की गई आपत्तिजनक टिप्पणी पर पांच साल से चल रहे मुकदमे का जिक्र करते हुए ट्वीट किया, मेरा मामला पिछले 5 साल से कोर्ट में है। मगर मेरी लड़ाई को दूसरे महिलाओं को शर्मिंदा करने का बहाना नहीं बनाया जा सकता। वास्तव में हमें यह बताना चाहिए कि किसी महिला के सम्मान को चुनौती दी जाती है तो हम राजनीतिक मतभेदों को दरकिनार करते हुए एक सुर में इसका विरोध करते हैं।

वहीं रूपा गांगुली ने भी नरेश अग्रवाल के बयान पर अफसोस जताया। उन्‍होंने ट्वीट करते हुए लिखा, 'नरेश अग्रवाल का बयान बेहद दुर्भाग्‍यपूर्ण है और मैं इसे स्‍वीकार नहीं करता। यह भाजपा नेतृत्‍व नहीं है। मुझे फिल्‍म इंडस्‍ट्री के प्रति जया जी के योगदान पर गर्व है और एक सांसद के रूप में भी।'

जुबान पर लगानी होगी लगाम
भाजपा में शामिल होने की नरेश अग्रवाल की जो भी रणनीति हो, लेकिन जया बच्चन पर टिप्पणी के बाद उन्हें पहले ही दिन स्पष्ट कर दिया गया कि जुबान पर लगाम लगानी होगी। खासतौर पर तब जबकि वह अक्सर कुछ न कुछ विवादित बयान देते रहे हैं। भाजपा प्रवक्ता की ओर से भी तत्काल स्पष्ट कर दिया गया कि भाजपा सभी क्षेत्रों से राजनीति में आने वालों का स्वागत करती है।

सधेंगे कई समीकरण
- नरेश अग्रवाल के भाजपा में शामिल होने को लेकर कई अटकलें हैं।
- इसे भाजपा की ओर से उत्तर प्रदेश में राज्यसभा की नौंवी सीट पर कब्जे की कोशिश के रूप में देखा जा रहा है। - खुद नरेश अग्रवाल ने घोषषणा की है कि उनका विधायक पुत्र भाजपा उम्मीदवार के लिए वोट करेगा।
- यह अटकलें भी तेज हो गई हैं कि क्या योगी कैबिनेट में भी वह या उनका परिवार शामिल होगा?

Posted By: Pratibha Kumari