नई दिल्ली, एएनआइ। ब्रिटेन की लेबर पार्टी के पूर्व नेता जेरेमी कार्बिन से मुलाकात कर कांग्रेस नेता राहुल गांधी विवादों में आ गए हैं। भाजपा ने उन्हें आड़े हाथों लेते हुए कहा कि यह सब जानते हैं कि जेरेमी का रुख हमेशा भारत विरोधी रहा है। ऐसे में राहुल की उनसे मुलाकात बेहद निंदनीय है। सोमवार को जेरेमी और राहुल की मुलाकात की फोटो भी इंडियन ओवरसीज कांग्रेस की ओर से ट्वीट की गई थी। बता दें कि जेरेमी को वामपंथी नेता के रूप में जाना जाता है और उन्होंने अतीत में कई बार भारत विरोधी बयान दिए हैं।

भाजपा नेता अमित मालवीय ने ट्वीट किया- ' यूके में राहुल गांधी लेबर पार्टी के नेता जेरेमी कार्बिन के साथ। जेरेमी भारत विरोधी बयानों के लिए जाने जाते हैं। जेरेमी कश्मीर के अलगाव की वकालत करते हैं और स्पष्ट रूप से हिंदू विरोधी हैं।' यही नहीं मालवीय ने साथ ही चुटकी ली कि चलो राहुल गांधी को अंत में कोई विदेशी सहयोगी तो मिला जो उनकी तरह ही भारत को बदनाम करता है। उधर, कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने ट्विटर पर कहा कि राजनीतिक नेता अतीत में मिले हैं और आगे भी मिलते रहेंगे। भले ही वे भिन्न विचारों के हों। इसमें कोई बुराई नहीं।

भारत में अभिव्यक्ति की इजाजत देने वाली संस्थाओं पर सुनियोजित हमले : राहुल

मोदी सरकार की विदेश में किरकिरी करने का राहुल गांधी का अभियान लगातार जारी है। उन्होंने अब नया आरोप लगाया है कि भारत को बोलने की इजाजत देनी वाली संस्थाओं पर 'सुनियोजित हमला' हो रहा है। बातचीत को बाधित किए जाने के कारण सरकार की नीतियों को गोपनीय तरीके से प्रभावित या नियंत्रित करने वाले प्रभावशाली लोग देश में संवाद को नए तरीके से परिभाषित कर रहे हैं। सोमवार शाम कैंब्रिज विश्वविद्यालय के कार्पस क्रिस्टी कालेज में 'इंडिया एट 75' कार्यक्रम के दौरान राहुल ने भारतीय छात्रों के सवालों के जवाब दिए।

उन्होंने हिंदू राष्ट्रवाद, कांग्रेस पार्टी में गांधी परिवार की भूमिका और देश के लोगों को संगठित करने के प्रयास जैसे व्यापक विषयों पर अपने विचार रखे। विश्वविद्यालय में भारतीय मूल की शिक्षाविद डा.श्रुति कपिला के साथ बातचीत में राहुल उन सब बिंदुओं को दोहराया, जो उन्होंने पिछले सप्ताह कहे थे।

उन्होंने कहा कि संसद, चुनाव प्रणाली, लोकतंत्र की बुनियादी संरचना पर एक संगठन विशेष द्वारा कब्जा किया जा रहा है। कांग्रेस नेता ने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और प्रधानमंत्री भारत के मूलभूत ढांचे के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। जब आप धु्रवीकरण की राजनीति करते हैं तो समझो आप 20 करोड़ लोगों को अलग-थलग कर रहे हैं। यह बेहद खतरनाक है और ऐसा करना मौलिक रूप से भारत के विचारों के खिलाफ है।

Edited By: Arun Kumar Singh