कोट्टायम, एएनआइ। केरल भाजपा अध्यक्ष के. सुरेंद्रन ने कहा कि पाला बिशप जोसफ कल्लरैंगाट की लव व नार्कोटिक जिहाद संबंधी चिंताओं पर व्यापक चर्चा होनी चाहिए। उधर, कांग्रेस ने भी मुख्यमंत्री पिनराई विजयन से सर्वदलीय बैठक बुलाकर मामले के स्थायी समाधान की मांग की, जबकि सत्तारूढ़ माकपा ने भाजपा पर सांप्रदायिक सौहार्द खराब करने का आरोप लगाया है।

सुरेंद्रन ने कहा, 'आतंकी संगठन पैसे के लिए वैश्विक तौर पर ड्रग्स तस्करी करते हैं। देश में तस्करी के जरिये आने वाले ड्रग्स का 75 फीसद हिस्सा केरल पहुंच रहा है। यह गंभीर मुद्दा है और इस पर चर्चा होनी चाहिए।' भाजपा नेता ने सोमवार को पत्रकार वार्ता में कहा कि जो यह कहते हैं कि लव व नार्कोटिक जिहाद है ही नहीं, वे आतंकी संगठन आइएसआइएस में शामिल होने वाले केरल के लोगों की चर्चा भी नहीं करते। उन्होंने पूछा, 'जिन लड़कियों से आप प्यार करते हैं, उन्हें सीरिया क्यों भेज देते हैं?'

प्रेट्र के अनुसार, सुरेंद्रन ने मंगलवार को पलक्कड़ में कहा कि एराटूपेटा नगरपालिका चुनाव में सत्तारूढ़ वाम लोकतांत्रिक मोर्चा (एलडीएफ) व सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी आफ इंडिया (एसडीपीआइ) के संबंध जाहिर हो चुके हैं। एसडीपीआइ पापुलर फ्रंट आफ इंडिया (पीएफआइ) की राजनीतिक इकाई है। एराटूपेटा नगरपालिका चुनाव में सोमवार को एलडीएफ ने एसडीपीआइ के सहयोग से कांग्रेसनीत संयुक्त प्रगतिशील मोर्चा (यूडीएफ) का सूपड़ा साफ कर दिया था। उन्होंने कहा कि माकपा ने राजनीतिक स्वार्थ के लिए राष्ट्र विरोधी व सांप्रदायिक ताकतों से हाथ मिला लिया है।

उधर, विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष वीडी सतीशन ने तिरुअनंतपुरम में कहा कि कुछ लोग सांप्रदायिक सौहार्द खराब करने में जुटे हैं और पुलिस व खुफिया विभाग चुप है। सरकार को सभी दलों और समुदायों के नेताओं की बैठक बुलाकर मामले का स्थायी समाधान तलाशना चाहिए।

माकपा के कार्यवाहक प्रदेश सचिव ए. विजयराघवन ने एक ट्वीट में कहा, 'किसी को वैसा बयान नहीं देना चाहिए, जिससे प्रदेश का सौहार्द खराब हो। भाजपा इस मुद्दे का लाभ उठाना चाहती है।' एसडीपीआइ से हाथ मिलाने के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि कांग्रेस भी विधानसभा चुनाव में अपने फायदे के लिए जमात ए इस्लामी से हाथ मिला चुकी है। उल्लेखनीय है कि पाला बिशप कल्लरैंगाट ने नौ सितंबर को चर्च में संबोधन के दौरान कहा था कि राज्य में गैर मुस्लिम युवाओं को लव व नार्कोटिक जिहाद का शिकार बनाया जा रहा है। इसके बाद इस मुद्दे पर राजनीतिक घमासान जारी है।

 

Edited By: Tanisk