नई दिल्ली, जेएनएन। देर से सही लेकिन भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने केंद्रीय संगठन को आमूलचूल बदल दिया है। गिने चुने चेहरों को छोड़कर उपाध्यक्ष से लेकर महामंत्री और सचिव तक के स्तर पर नड्डा ने ना केवल नए चेहरे लाए हैं वरन हर राज्य को प्रतिनिधित्व देने की कोशिश की है। महिलाओं का प्रतिनिधित्व बढ़ाया गया है। संगठन में नया जोश भर कर नड्डा ने उन क्षेत्रों पर भी नजरें लगा दी हैं जहां भाजपा सत्‍ता से दूर रही है। पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, केरल इन राज्यों में प्रमुख हैं।

राममाधव, मुरलीधर राव, अनिल जैन को नहीं मिली जगह 

शनिवार को भाजपा संगठन में बहुप्रतीक्षित बदलाव की घोषणा की गई। माना जा रहा था कि छोटा परिवर्तन होगा लेकिन नड्डा ने सबकुछ बदल डाला। महासचिवों की बात हो तो भूपेंद्र यादव, अरुण सिंह और कैलाश विजयवर्गीय को छोड़कर सभी चेहरों को मौका दिया गया है। राममाधव, मुरलीधर राव, अनिल जैन, सरोज पांडे जैसे चेहरे बदले गए हैं। कुछ साल पहले ही भाजपा में शामिल हुई पूर्व केंद्रीय मंत्री डी पुरंदेश्वरी, कर्नाटक के विधायक सीटी रवि, पंजाब के तरुण चुग, असम के दिलीप सैकिया और दिल्ली से राज्यसभा सांसद दुष्यंत कुमार गौतम को महासचिव बनाया गया है।