कलबुर्गी, कर्नाटक (जेएनएन)। कर्नाटक विधानसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस का घेराव करने का एक भी मौका भाजपा नहीं छोड़ रही है। अपने कर्नाटक दौरे पर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के निशाने पर राज्य की सिद्धारमैया सरकार और कांग्रेस पार्टी रही। आज (सोमवार) को कलबुर्गी में संवाददाताओं के बीच अमित शाह ने कर्नाटक सरकार को जमकर घेरा। उन्होंने कहा, 'कर्नाटक सरकार सभी मोर्चों पर फेल हुई है। भ्रष्टाचार के मामले बढ़ें हैं। भ्रष्टाचार और सिद्धारमैया एक दूसरे के पर्याय बन गए हैं।'

शाह के निशाने पर सिद्धारमैया और खड़गे

अमित शाह ने मुख्यमंत्री सिद्धारमैया पर निशाने पर लेते हुए कहा, 'जिस तरीके से पीएफआइ (पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया) और एसडीपीआइ (सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया) के खिलाफ सभी मामलों को वापस ले लिया गया है। इससे सिद्धारमैया सरकार की दिशाहीन कार्रवाई का पता चलता है।' वहीं, कांग्रेस का घेराव करते हुए वे बोले, 'कांग्रेस का शासन कैसा होता है वो देखना है कि खड़गे साहब की निर्वाचन क्षेत्र में जाकर देखना चाहिए। मेरे पास कार्यकर्ताओं से फीड आया है कि इतना पिछड़ापन कर्नाटक के किसी और क्षेत्र में नहीं है जितना खड़गे साहब के स्वयं के क्षेत्र के अंदर है।'

हेगड़े के संविधान वाले बयान पर बोले शाह 

केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े के संविधान पर दिए विवादित बयान को लेकर अमित शाह ने कहा, 'हेगड़े जी ने माफी मांग ली है और मैंने कहा कि इनके बयान से पार्टी का इत्तेफाक नहीं है। बता दें कि हेगड़े ने कहा था कि भाजपा के पास संविधान बदलने की ताकत है। जिसका संसद से लेकर सड़क पर भी विपक्षी दलों ने भाजपा का घेराव किया। हेगड़े ने कहा था, 'भाजपा के पास संविधान को बदलने की ताकत है। यदि कोई खुद को मुस्लिम, ईसाई, ब्राह्मण, लिंगायत या हिंदू के रूप में प्रस्तुत करता है तो मुझे इससे खुशी होती है लेकिन समस्या तब पैदा होती है जब कोई कहता है कि वह सैकुलर है। अब भाजपा इस संविधान को बदलने वाली है।'

तीन दिवसीय कर्नाटक दौरे पर शाह

बता दें कि कर्नाटक चुनाव के मद्देनजर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह तीन दिवसीय कर्नाटक दौरे पर हैं। जहां कल (रविवार) को बीदर में आत्महत्या करने वाले तीन किसानों के परिजनों से मिले। वहीं, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी कर्नाटक में है। जहां राहुल गांधी ने रविवार को उद्योगपतियों के कर्जमाफी को लेकर सरकार का घेराव किया। जिसका तत्काल अमित शाह ने खंडन करते हुए कहा कि राहुल गांधी झूठ बोल रहे हैं, हमने एक भी उद्योगपति का कर्जा माफ नहीं किया। आरोप-प्रत्यारोप का यह सिलसिला अब भी जारी है। कर्नाटक में इस साल अप्रैल-मई में राज्य की 224 सीटों के लिए विधानसभा चुनाव होने हैं। कांग्रेस के सामने सिद्धारमैया सरकार को फिर से सत्ता दिलाना चुनौती है। वहीं भाजपा कर्नाटक में भी कमल खिलाने की जद्देजहद में लगी हुई है।

 

Posted By: Nancy Bajpai