भोपाल, एएनआइ। अपने विवादित बोल के चलते चर्चा में रहने वाली भोपाल से भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर एक बार फिर बयान दिया है। उन्होंने मध्य प्रदेश के सीहोर में कहा 'हम नाली साफ करवाने के लिए सांसद नहीं बने हैं। आपका शौचालय साफ करवाने के लिए सांसद बिल्कुल नहीं बनाए गए हैं। हम जिस काम के लिए बनाए गए हैं, वह काम हम ईमानदारी से करेंगे।'

प्रज्ञा पूरे चुनाव के दौरान अपने विवादित बोल के चलते चर्चा में रहीं। इस दौरान उन्होंने राम मंदिर से लेकर नाथूराम गोडसे तक पर विवादित बयान दिए। यही नहीं जब उन्होंने लोकसभा में सासंद के तौर शपथ लिया, तो भी काफी विवाद हुआ था।

दरअसल शपथ लेते वक्त साध्वी प्रज्ञा ने संस्कृत में शपथ लेते वक्त अपने गुरू का नाम लिया। इसी बीच विपक्ष के कुछ सांसदों ने हंगामा शुरु कर दिया था। दो बार खलल के बाद, प्रज्ञा ठाकुर ने तीसरे प्रयास में अपना शपथ पूरा किया था।

लोकसभा चुनाव में साध्वी प्रज्ञा ने भोपाल संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस के दिग्गज नेता और दो बार के मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे दिग्विजय सिंह को हराया था। साध्वी प्रज्ञा 2008 में हुए मालेगांव विस्फोट कांड में आरोपी हैं, जिसमें छह लोगों की मौत हो गई थी।

गौरतलब है कि उन्होंने चुनाव के दौरान नाथूराम गोडसे 26/11 हमले में शहीद हुए पुलिस अधिकारी हेमंत करकरे और कई विवादित बयान दिए थे। चुनाव में जीत के बाद उन्होंने कहा था कि वे सांसद के तौर पर वेतन नहीं लेंगी। वो इसका वेतन का उपयोग देश और जरूरतमंदों के लिए करेंगी।

Posted By: Dhyanendra Singh