जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। संसद के शीतकालीन सत्र का शुक्रवार को अंतिम दिन था। उम्मीद थी कि काम-काज शांतिपूर्ण तरीके से होगा। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। दोनों सदनों की कार्यवाही सुबह जैसे ही शुरु हुई, कांग्रेस सांसद राहुल गांधी के 'रेप इन इंडिया' के मसले पर संसद के अंदर मामला इतना भड़का कि शोर शराबे के बीच ही कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित हो गई। भाजपा की ओर से जहां राहुल से माफी की मांग की गई वहीं कांग्रेस सांसद इतने उग्र थे कि लोकसभा अध्यक्ष के बयान के वक्त भी शांत नहीं हुए।

भाजपा की महिला सांसदों ने की चुनाव आयोग से शिकायत

वहीं राहुल गांधी के 'रेप इन इंडिया' बयान के खिलाफ भाजपा की महिला सांसदों ने चुनाव आयोग में शिकायत दर्ज कराई और राहुल को कड़ी सजा देने की मांग की। चुनाव आयोग के दफ्तर से निकलने के बाद महिला व बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि महिलाओं के संदर्भ में राहुल गांधी के बयान पर देश के आक्रोशित परिवारों की तरफ भाजपा की महिला सांसदों और कार्यकर्ताओं ने चुनाव आयोग से कड़ी सजा का निवेदन किया है। चुनाव अधिकारियों ने आश्वस्त किया है कि वे कानूनी प्रक्रिया का पालन करते हुए निश्चित रूप से न्याय करेंगे।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने राहुल गांधी पर किया तीखा हमला

एक दिन पहले ही राहुल ने एक बयान दिया था और कहा था कि 'मेक इन इंडिया नहीं बल्कि रेप इन इंडिया हो रहा है।' शुक्रवार को सदन की कार्यवाही शुरू होते ही दोनों सदनों में भाजपा सदस्यों ने इसका विरोध किया। यहीं तक कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी राहुल पर तीखा हमला करते हुए कहा 'क्या सदन में ऐसे भी लोग चुनकर आ सकते है, जो इस प्रकार के शब्दों का प्रयोग करते है? उन्हें इसके लिए पूरे देश से माफी मांगनी चाहिए।' उन्होंने उदाहरण भी दिया कि निरंजन ज्योति या अनंत हेगड़े जैसे भाजपा नेताओं ने जब भी आपत्तिजनक बयान दिया उन्हें संसद में आकर माफी मांगनी पड़ी है। राहुल को भी माफी मांगनी चाहिए। उस वक्त राहुल गांधी मुस्कुराते हुए देखे गए। इस दौरान कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस ने नार्थ- ईस्ट की स्थिति को लेकर नारेबाजी की और सरकार से सफाई मांगी। दोनों ही सदनों में हुए इस जोरदार हंगामे के चलते कार्यवाही को कई बार स्थगित किया गया।

राहुल गांधी ने माफी मांगने से किया इनकार

वहीं इस हंगामे के बीच राहुल गांधी ने सदन से बाहर निकलकर फिर अपनी बात दोहराई। उन्होंने माफी मांगने से इनकार करते हुए कहा- 'मैं ने कहा कि यहां मेक इन इंडिया का नारा दिया जा रहा है। लेकिन रेप इन इंडिया हो रहा है।' इसे और राजनीतिक रंग देते हुए राहुल ने कहा- कोई भी भाजपा शासित राज्य नहीं है जहां दिनभर महिलाओं के साथ बलात्कार नहीं हो रहा है।' उन्होंने रघुराम राजन का हवाला देते हुए कहा कि वह आज ही मिलने आए थे। वह बता रहे थे, कि अमेरिका, यूरोप में अब हिन्दुस्तान की होती है, तो वह इकोनॉमी को लेकर नहीं होती है, बल्कि अत्याचार, हिंसा और बंटवारे जैसे चीजों पर होती है।'

स्मृति ईरानी ने राहुल के बयान को घिनौना बताया

वहीं स्मृति ईरानी ने सदन से बाहर निकलकर भी राहुल गांधी पर तीखा हमला बोला और उनके बयान को घिनौना बताया। साथ ही चुनाव आयोग से भी उनके बयान पर कार्रवाई करने की मांगी की। जिसमें रेप को राजनीतिक मुद्दा बनाते हुए झारखंड विधानसभा चुनाव में वोट मांगे है। संसद के अंदर जब शोर शराबा चल रहा था तो भाजपा सांसद बिहार के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने राहुल पर हमला करते हुए कहा- चाणक्य ने दो हजार पहले कहा था- 'विदेशी मां की संतान कभी देशभक्त नहीं हो सकती। यह हम आज देख रहे हैं।'

लेकिन जो लोग यह तर्क दे रहे है, कि मेरी पार्टी के लोगों के द्वारा भी पहले ऐसे अपशब्दों का प्रयोग किया है। तो मै बता देना चाहता हूं, कि हमने ऐसे सदस्यों के, जिन्होंने थोड़ा इधर-उधर प्रयोग किया था, उन्हें सदन में बुलाकर खेद व्यक्त कराया है। इनमें चाहे साध्वी निरंजन ज्योति रही हो, या अनंत कुमार हेगड़े रहे हो।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस