नई दिल्ली, एजेंसी। भारत के साथ-साथ दुनिया के कई हिस्सों में राम नाम की गूंज है। आज उत्तरप्रदेश के अयोध्या में राम मंदिर का भूमि-पूजन किया गया। यह अवसर किसी बड़े त्योहार से कम नहीं है। देश के प्रधानमंत्री अयोध्या पहुंच हैं। कई 100 साल बाद राम भक्तों का सपना सच होने जा रहा है। रामनगरी अयोध्या में यह रामकथा का नया अध्याय है, 492 वर्ष तक चली संघर्ष-कथा का अपना 'उत्तरकांड' है। अयोध्या तो न्यारी ही छटा में है। सड़कों के किनारे पीले रंगे मकान शुभ कार्य का संदेश दे रहे हैं। कोई घर ऐसा नहीं, जिस पर भगवा पताका न लहरा रही हो। सड़कों पर रंगोली सज रही है, कतारबद्ध किए जा रहे दीपक कल्पना को उसी समय में धकेल रहे हैं कि जब चौदह वर्ष का वनवास समाप्त कर प्रभु श्रीराम अपनी अयोध्या लौटे होंगे। ऐसे महान समय में बाबाओं और राजनेताओं में भी काफी उत्सुकता देखी जा रही है।...और वे सोशल मीडिया व एएनआइ के हवाले से राममय बधाई दे रहे हैं। 

राम मंदिर पर नेताओं की प्रतिक्रिया:

-अयोध्या में राम जन्म भूमि पूजन को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी बधाई दी। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, 'मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम सर्वोत्तम मानवीय गुणों का स्वरूप हैं। वे हमारे मन की गहराइयों में बसी मानवता की मूल भावना हैं।' उन्होंन आगे लिखा कि राम प्रेम हैं, वे कभी घृणा में प्रकट नहीं हो सकते। राम करुणा हैं वे कभी क्रूरता में प्रकट नहीं हो सकते। राम न्याय हैं वे कभी अन्याय में प्रकट नहीं हो सकते। इससे पहले प्रियंका गांधी वाड्रा ने बयान जारी कर भूमि पूजन के लिए शुभकामनाएं दीं थी और कहा था कि राम सबमें हैं।

-भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा, 'राम-मंदिर निर्माण के शुभारंभ पर सभी को बधाई! मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु राम के मंदिर का निर्माण न्यायप्रक्रिया के अनुरूप तथा जनसाधारण के उत्साह व सामाजिक सौहार्द के संबल से हो रहा है। मुझे विश्वास है कि मंदिर परिसर, रामराज्य के आदर्शों पर आधारित आधुनिक भारत का प्रतीक बनेगा।'

-राम जन्मभूमि स्थल पर पहुंच योग गुरु रामदेव बोले- भारत का सबसे बड़ा सौभाग्य जो हम राममंदिर कार्यक्रम को देख रहे हैं ... इस राष्ट्र में 'रामराज्य' स्थापित करने के लिए, पतंजलि योगपीठ अयोध्या में एक भव्य 'गुरुकुल' बनाएगी। दुनिया भर के लोग यहां वेद, आयुर्वेद का अध्ययन कर सकेंगे।

-मध्य प्रदेश सीएम शिवराज सिंह चौहान बोले- 500 वर्ष पहले जो महायज्ञ प्रारम्भ हुआ, उसकी पूर्णाहुति आज होने जा रही है। प्रधानमंत्री के करकमलों से अयोध्या में श्रीराम मंदिर की आधारशिला रखी जायेगी। मोदी जी ने दृढ़ इच्छाशक्ति और संकल्पशक्ति का परिचय दिया है। सारा देश उनका अभिनंदन करता है।

-राम माधव(BJP) ने कहा, 'आज का दिन 130 करोड़ देशवासियों के लिए आनंद का दिन होना चाहिए। जहां भगवान राम का जन्म हुआ था वहां भव्य मंदिर बनने जा रहा है, राम ​इस देश के मूल्य और विरासत का प्रतीक हैं। इस देश में रहने वाले हर भारतवासी के लिए राम आदर्श पुरुष हैं।'

-अयोध्या: योग गुरु रामदेव ने हनुमान गढ़ी मंदिर में पूजा की। रामदेव ने कहा, '5 तारीख देश की ऐतिहासिक तारीख है। आज के दिन को सदियां याद करेगी। भारत राम राज्य में प्रवेश कर रहा है।'

-भाजपा नेता उमा भारती ने कहा, 'अयोध्या ने सभी को एक कर दिया, अब यह देश पूरी दुनिया में अपना माथा ऊंचा उठा कर कहेगा कि यहां कोई भेदभाव नहीं है।'

-स्वामी अवधेशानंद गिरि अयोध्या में राम जन्मभूमि स्थल पर पहुंचे और उन्होंने कहा, 'पूरी दुनिया की निगाहें भारत पर टिकी हैं। यह सद्भाव का संदेश भेजने का एक ऐतिहासिक दिन है।'

अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा आज भूमिपूजन किया गया। अयोध्या में होने वाले राम मंदिर के भूमिपूजन को लेकर शहर में बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है। नरेंद्र मोदी पहले प्रधानमंत्री हैं जो रामलला के दरबार में उपस्थित रहे। बतौर प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी, राजीव गांधी और अटल बिहारी वाजपेयी का अयोध्या आना तो हुआ, पर रामलला के दर्शन का सुयोग नहीं बना। मोदी पांच अगस्त को प्रधानमंत्री रहते न केवल रामलला का दर्शन-पूजन करेंगे, बल्कि जन्मभूमि पर राम मंदिर की आधारशिला भी रखेंगे। उन्होंने प्रधानमंत्री बनने के पहले भी रामलला का दर्शन किया था।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस