मुंबई, आइएएनएस। महाराष्ट्र में औरंगजेब की कब्र को लेकर राजनीति तेज हो गई है। भारतीय जनता पार्टी (BJP) और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) द्वारा बुधवार को मुगल बादशाह औरंगजेब की कब्र को 'उखाड़ने' के आह्वान के बाद, खुल्दाबाद में और उसके आसपास सुरक्षा कड़ी कर दी गई। कार्यकर्ता गजानन काले ने मंगलवार को औरंगजेब की कब्र को संरक्षित करने की आवश्यकता पर सवाल उठाया। भाजपा एमएलसी प्रसाद लाड ने छोटे स्मारक को हटाने की धमकी दी, जो औरंगाबाद और उसके आसपास के प्रमुख पर्यटक आकर्षणों में से एक है। कब्र के लिए संभावित खतरों के मद्देनजर, महाराष्ट्र पुलिस और भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ASI) ने साइट पर अतिरिक्त गार्ड और एक वैन तैनात की है। हालांकि, यह अभी भी जनता के लिए खुला है।

उद्धव ठाकरे पर उठाए गए सवाल

अतिरिक्त सुरक्षा को तुरंत हटाने की मांग करते हुए, लाड ने पूछा कि क्या यही मुख्यमंत्री का 'हिंदुत्व ब्रांड' है। उन्होंने आगे कहा कि महाराष्ट्र में जब हनुमान चालीसा का जाप करते हैं तो उन्हें देशद्रोह माना जाता है।

लाड ने आगे कहा कि यह वही औरंगजेब है, जिसने छत्रपति संभाजी महाराज (छत्रपति शिवाजी महाराज के पुत्र) को मार डाला, मस्जिद बनाने के लिए हिंदू मंदिरों को ध्वस्त कर दिया। अब सीएम औरंगजेब की कब्र पर सुरक्षा मुहैया करा रहे हैं। लाड ने कहा, 'क्या यह सोनिया गांधी-शरद पवार हिंदुत्व की शैली है या दिवंगत बालासाहेब ठाकरे का हिंदुत्व है,।' लाड ने राज्य सरकार से नए सुरक्षा उपायों को तुरंत हटाने का आह्वान किया और मुगल सम्राट की कब्र को उखाड़ने की कसम खाई। 

शरद पवार ने की निंदा 

बता दें कि एआईएमआईएम (AIMIM) नेता और तेलंगाना के विधायक अकबरुद्दीन ओवैसी की कुछ दिनों पहले औरंगजेब की कब्र पर गए थे। इस घटना पर चिंता जाहिर करते हिए कांग्रेस महासचिव सचिन सावंत ने कहा कि चूंकि एएसआई केंद्र से संबंधित है, इसलिए भाजपा-मनसे नरेंद्र मोदी सरकार से प्रतिबंधित करने के लिए क्यों नहीं कह रही है। उन्होंने कई भाजपा नेताओं की तस्वीरें और वीडियो भी पेश किए, जो अतीत में कब्र पर जाकर प्रार्थना कर चुके हैं, लेकिन अब पार्टी उन पर चुप है। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी प्रेसिडेंट शरद पवार ने पूछा है कि क्या बीजेपी-मनसे महाराष्ट्र में औरंगजेब के मकबरे को लेकर नया विवाद खड़ा करने की कोशिश कर रहे हैं।

Edited By: Piyush Kumar