गुवाहाटी, एएनआइ। आल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट के विधायक अमीनुल इस्लाम ने दावा किया कि मुगल शासक औरंगजेब ने अपने शासन के दौरान गुवाहाटी में कामाख्या मंदिर सहित 400 से अधिक मंदिरों के लिए भूमि दान की थी। मंगलवार को एएनआइ से बात करते हुए, इस्लाम ने कहा, 'मैंने देश में मुगल शासन के दौरान जो देखा था वह मैंने कहा। एक इतिहासकार ने अपनी पुस्तक में यह भी लिखा है कि औरंगजेब ने अपने शासन के दौरान 400 से अधिक मंदिरों को भूमि दान की थी। अन्य मुगल शासकों ने भी गुवाहाटी में कामाख्या मंदिर सहित मंदिरों, पुजारियों के लिए भूमि दान की।'

एआईयूडीएफ विधायक ने आगे कहा कि भारत में धर्मनिरपेक्षता हजारों वर्षों से मौजूद है, यह 1947 के ठीक बाद नहीं आई। उन्होंने कहा, 'असम के मुख्यमंत्री ने कहा था कि भारत 1947 के बाद ही धर्मनिरपेक्ष बना। इस पर मैंने कहा था कि जिसने भी भारत पर शासन किया, उसने धर्मनिरपेक्षता बनाए रखी। जब हिंदू शासक थे, मुसलमान अपने धर्म का पालन करने के लिए स्वतंत्र थे, और वैसे ही मुसलमानों के शासक में हिंदू।' उन्होंने कहा कि धर्मनिरपेक्षता हजारों वर्षों से भारत का हिस्सा रही है।

औरंगजेब ने कामाख्या मंदिर के लिए जमीन दान की थी, इसपर AIUDF विधायक अमीनुल इस्लाम ने कहा, 'महेश्वर नियोग की पवित्र असम किताब कहती है कि औरंगजेब के एक अधिकारी ने जमीन से जुड़ा फरमान जारी किया था। मुझे धमकी देने के बजाय, वोंग बुक प्रकाशित करने के लिए सीएम को असम साहित्य सभा को धमकाना चाहिए।'

इस्लाम कहते हैं, धर्मनिरपेक्षता हजारों शासकों के शासन के दौरान अस्तित्व में थी, चाहे उनका धर्म कुछ भी हो। तो असम के सीएम के ये बयान, कि कैसे हमें आजादी के बाद केवल धर्मनिरपेक्षता मिली और कैसे मुसलमानों ने 300 साल पहले देश में प्रवेश किया, यह गलत हैं।

Edited By: Nitin Arora

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट