नई दिल्‍ली, एएनआइ। भारतीय जनता पार्टी की सांसद प्रज्ञा ठाकुर विवादित बयान 'हम नाली और शौचालय साफ करने के लिए नहीं बने सांसद' को लेकर विपक्षियों के निशाने पर आ गई हैं। एआइएमआइएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने भोपाल से सांसद प्रज्ञा ठाकुर पर निशाना साधते हुए कहा है कि यह तो सीधे-सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 'स्‍वच्‍छ भारत अभियान' को चुनौती है। बता दें कि पीएम मोदी ने भी इस अभियान के तहत सड़कों पर झाड़ू लगाई थी। हेमा मालिनी समेत कुछ सांसदों ने तो हाल ही में संसद भवन की गंदगी भी साफ की थी।

ओवैसी ने कहा कि प्रज्ञा ठाकुर ने अपने बयान से पीएम मोदी के 'स्‍वच्‍छ भारत अभियान' को खुली चुनौती दी है। साथ ही इस बयान के जरिए वह यह भी दर्शाना चाह रही हैं कि वह अपर कास्ट की हैं। वह लोग जो शौचालय साफ करते हैं, वे उनके बराबर नहीं हैं।'

एआइएमआइएम प्रमुख ने आगे कहा कि इससे कैसे न्यू इंडिया बनेगा? इससे पहले प्रज्ञा ठाकुर ने नाथूराम गोडसे की तारीफ की और हेमंत करकरे की आलोचना की थी। दरअसल, यह चाहते हैं कि भारत में कास्ट सिस्टम बना रहे। बता दें कि मध्य प्रदेश के सीहोर में कहा 'हम नाली साफ करवाने के लिए सांसद नहीं बने हैं। आपका शौचालय साफ करवाने के लिए सांसद बिल्कुल नहीं बनाए गए हैं। हम जिस काम के लिए बनाए गए हैं, वह काम हम ईमानदारी से करेंगे।'

लोकसभा चुनाव में साध्वी प्रज्ञा ने भोपाल संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस के दिग्गज नेता और दो बार के मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे दिग्विजय सिंह को हराया था। साध्वी प्रज्ञा 2008 में हुए मालेगांव विस्फोट कांड में आरोपी हैं, जिसमें छह लोगों की मौत हो गई थी।

गौरतलब है कि उन्होंने चुनाव के दौरान नाथूराम गोडसे 26/11 हमले में शहीद हुए पुलिस अधिकारी हेमंत करकरे और कई विवादित बयान दिए थे। चुनाव में जीत के बाद उन्होंने कहा था कि वे सांसद के तौर पर वेतन नहीं लेंगी। वो इसका वेतन का उपयोग देश और जरूरतमंदों के लिए करेंगी।

Posted By: Tilak Raj

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप