नई दिल्ली, प्रेट्र। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर तंज कसते हुए कहा है कि विद्वता सीखने से ही हासिल होती है, यह विरासत में कभी नहीं मिलती। जेटली ने यह बात राहुल के पीएम नरेंद्र मोदी पर हो रहे लगातार हमलों पर कही।
फेसबुक पोस्ट पर वित्त मंत्री का कहना था कि राहुल को हर जगह मोदी ही नजर आते हैं। कांग्रेस की विचारधारा खत्म हो गई है। उसका केवल एक ही काम रह गया है और वह है मोदी पर हमला। यह अब जुनून की शक्ल लेता जा रहा है। जेटली ने यह बात राहुल के उस आरोप पर कही, जिसमें उनका कहना था कि मोदी सरकार ने चुनिंदा उद्योगपतियों के 2.5 लाख करोड़ रुपये के ऋण माफ कर दिए। जेटली का कहना था कि राहुल को बैकिंग प्रणाली की जानकारी बिलकुल नहीं है। पहले उन्हें इसे सीखें और फिर आरोप लगाएं। जेटली का कहना था कि 2008-14 के दौरान यूपीए सरकार ने 15 बड़े लोन डिफाल्टरों को ऋण जारी किए थे। राहुल हमेशा विपरीत चीजें बोलते हैं, बिलकुल गोबेलियन की तरह से।
ध्यान रहे कि कुछ उद्योगपतियों के 2.5 लाख करोड़ के ऋण माफ करने के मामले में राहुल मोदी सरकार को लगातार घेरते आ रहे हैं। मुद्रा योजना पर भी उन्होंने सवाल उठाए हैं। हाल ही में कोकाकोला व मैकडोनेल्डस के मालिकों के उदाहरण देकर भी उन्होंने सरकार पर हमला किया था। जेटली ने कहा कि राहुल के वक्तव्यों में सच्चाई की जगह केवल मोदी विरोध है।
जेटली ने राहुल के हालिया ओबीसी प्रेम पर भी सवाल उठाए। उनका कहना था कि मंडल कमीशन की रिपोर्ट को खुद पूर्व प्रधानमंत्री व उनके पिता राजीव गांधी ने खारिज कर दिया था। राहुल ने खुद नेशनल कमीशन फॉर बैकवर्ड क्लासेज का विरोध किया था। पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम पर निशाना साधते हुए जेटली ने कहा कि वह मुद्रा योजना की सफलता की गाथा को खारिज करने की कोशिश कर रहे हैं। इसके तहत 12.90 करोड़ लोन जारी किए गए हैं। योजना के तहत छह लाख करोड़ के लोन बांटे जा चुके हैं।

By Manish Negi