नई दिल्‍ली (एजेंसी)। अगस्‍ता वेस्‍टलैंड मामले में प्रवर्तन निदेशालय के आरोप पत्र को लेकर केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने शुक्रवार को कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस को जवाब देना चाहिए कि आखिर ये आरजी, एपी और एफएएम कौन हैं। यदि हमारे सवालों का जवाब नहीं आ रहा है तो मानना चाहिए कि उनके पास देने लायक जवाब नहीं है। वहीं कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने प्रधानमंत्री मोदी और केंद्रीय वित्‍त मंत्री अरुण जेटली के आरोपों पर पलटवार करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री मोदी गंदी पॉलिटिक्‍स करते हैं। 

इससे पहले आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देहरादून में आयोजित एक चुनावी रैली में कहा क‍ि अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले से जुड़ी चार्जशीट में एपी और एफएएम का जिक्र है। इस सौदे में बिचौलियों ने जिनको घूस देने की बात कही है, उनमें एक एक एपी है और दूसरा एफएएम है। एपी का मतलब कथित तौर पर अहमद पटेल जबकी एफएएम का मतलब फैमिली है।

प्रधानमंत्री मोदी और केंद्रीय वित्‍त मंत्री अरुण जेटली के आरोपों पर जब पत्रकारों ने अहमद पटेल से सवाल क‍िया तो उन्‍होंने पीएम मोदी पर गटर लेवल की पॉलिटिक्‍स करने का आरोप लगाया। पटेल ने कहा, ''हमे न्‍यायपालिका पर पूरा भरोसा है। यदि हम कहीं पर भी दोषी हैं तो हम पर कार्रवाई हो। ले‍क‍िन ये आरोप क‍िनके मुंह से निकल रहा है। नरेंद्र मोदी को सब जानते हैं, वह गटर लेवल की पॉलिटिक्‍स करते हैं।'' 

जेटली ने कहा क‍ि अब अगस्ता वेस्टलैंड मामले के आरोप पत्र में आरजी, एपी और एफएएम का उल्लेख क‍िया गया है। राहुल गांधी जो कई विषयों पर बात करते हैं। लोगों के खिलाफ झूठे और बेबुनियाद आरोप लगाते हैं। लेक‍िन, हैरानी होती है क‍ि उन्‍हें इन नामों के बारे में जानकारी नहीं है। केंद्रीय मंत्री ने सवाल उठाया क‍ि आखिरकार हर बार विवादास्‍पद रक्षा सौदों में कांग्रेस पार्टी के पहले परिवार से जुड़े नाम ही क्‍यों आते हैं। ये आरजी, एपी और एफएएम कौन हैं। क्‍या ये महज काल्‍पनिक पात्र हैं या ये रक्षा सौदे को प्रभावित करने की स्थिति में भी थे। 

Posted By: Krishna Bihari Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप