नई दिल्‍ली, एएनआइ। संसद के बजट सत्र का दूसरा चरण अब तक हंगामेदार रहा है और आगे भी यही सिलसिला जारी रहने के आसार हैं। संसद के दोनों सदनों में कार्यवाही शुरू होते ही विपक्ष का शोर-शराबा-हंगामा शुरू हो जाता है और फिर कार्यवाही को स्‍थगित करने पर मजबूर होना पड़ता है।

कांग्रेस समेत पूरा विपक्ष पीएनबी घोटाले समेत कई मुद्दों पर सरकार को घेरने और संसद सत्र को नहीं चलने देने की रणनीति पर कायम है। हालांकि सरकार की तरफ से कई मौकाें पर कहा जा चुका है कि वह विपक्ष के साथ सभी मुद्दों पर चर्चा करने के लिए तैयार है।

संसदीय मामलों के मंत्री अनंत कुमार ने आज एक बार फिर कांग्रेस और अन्‍य पार्टियों को संसद की कार्यवाही चलने देने का अनुरोध किया। साथ ही इसको लेकर सोनिया गांधी और राहुल गांधी पर निश्‍ााना भी साधा।

उन्‍होंने कहा, हम कांग्रेस और अन्‍य पार्टियों से अनुरोध करते हैं कि सदन की कार्यवाही चलने दें। ऐसा लगता है कि सोनिया गांधी और राहुल गांधी को लोकतंत्र में भरोसा नहीं करते हैं। वे बाहर लोकतंत्र पर बोलते हैं, मगर संसद में इस पर अमल नहीं करते हैं। कांग्रेस के जीन में लोकतंत्र नहीं है।

मल्लिकार्जुन खड़गे ने दिया जवाब

वहीं जवाब में कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा, वो लोकतंत्र को खत्‍म करने के लिए क्‍या-क्‍या करना चाहिए, वो कदम उठा रहे हैं और दूसरों को पाठ पढ़ा रहे हैं कि कांग्रेस चर्चा नहीं करती।



नायडू भी चेता चुके हैं नेताओं को

गौरतलब है कि इससे पहले संसद की कार्यवाही में लगातार गतिरोध को पूरी तरह गलत बताते हुए उपराष्ट्रपति और राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू ने नेताओं को चेताया था कि अगर यही सिलसिला चलता रहा तो लोगों का नेताओं पर से भरोसा उठ जाएगा।

उपराष्ट्रपति ने सदन में कोरम के अभाव को लेकर भी अपनी चिंता जाहिर की थी। उन्होंने कहा कि मुङो बार-बार कोरम की घंटी बजानी पड़ती है। संसद के केंद्रीय कक्ष में देश भर के सांसदों और विधायकों के सम्मेलन के दूसरे व अंतिम दिन उपराष्ट्रपति ने कहा कि कोरम पूरा करने की जिम्मेदारी सत्तापक्ष और विपक्ष दोनों की है।

Posted By: Pratibha Kumari