मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। भाजपा अध्यक्ष व गृह मंत्री अमित शाह ने अरुण जेटली के निधन को अपने लिए व्यक्तिगत क्षति बताया है। वह एक कार्यक्रम में भाग लेने हैदराबाद गए हुए थे। खबर मिलते ही कार्यक्रम छोड़कर उन्होंने तत्काल दिल्ली का रुख किया। गृह मंत्री ने कहा कि जेटली के निधन से देश की राजनीति और भाजपा में एक शून्य पैदा हो गया है, जिसे भरना मुश्किल होगा। उन्होंने कहा कि भाजपा ने अपना एक यशस्वी नेता खो दिया है।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि जब मैं जीवन में संकट के दौर से गुजर रहा था तो अरुण जेटली जी मेरे साथ खड़े हुए। आज वह हमारे साथ नहीं है, मैं ईश्‍वर से प्रार्थना करता हूं कि वे दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करें और उनके परिवार और भाजपा कार्यकर्ताओं को इस नुकसान से निपटने के लिए शक्ति प्रदान करें।    

अमित शाह ने अपने शोक संदेश में कहा कि भाजपा अध्यक्ष के रूप में उन्होंने न केवल संगठन का एक वरिष्ठ नेता बल्कि परिवार का एक अभिन्न सदस्य भी खो दिया है। शाह के अनुसार, उन्हें जेटली का समर्थन और दिशा-निर्देश वर्षो से मिलता रहा। शाह ने जेटली को विलक्षण प्रतिभा का धनी बताते हुए कहा कि उन्होंने पार्टी और सरकार में विभिन्न जिम्मेदारियों का बखूबी निर्वाह किया। साथ ही एक शानदार वक्ता और समर्पित कार्यकर्ता के रूप में उन्होंने देश के वित्त मंत्री, रक्षा मंत्री और राज्यसभा में विपक्ष के नेता जैसे महत्वपूर्ण पदों को सुशोभित किया।

मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में अरुण जेटली के योगदान को याद करते हुए अमित शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री के गरीबों के कल्याण के विजन को धरातल पर उतारने में अहम भूमिका निभाई थी। इसके साथ ही भारत को विश्व की सबसे तेज गति से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था बनाने के लिए वित्त मंत्री के रूप में बड़ा योगदान दिया था।

शाह ने कहा कि जेटली लोकोन्मुखी व्यक्ति थे और हमेशा आम लोगों के कल्याण की बात सोचते थे। भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई में उन्होंने बढ़-चढ़कर योगदान किया।

 

Posted By: Arun Kumar Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप