जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। प्याज की महंगाई को लेकर मची हायतौबा थमने का नाम नहीं ले रही है। संसद से लेकर सड़क तक विपक्ष सरकार पर हमलावर हो रहा है तो उपभोक्ताओं की मुश्किलें भी बढ़ने लगी हैं। इसे लेकर सरकार भी चुप नहीं है। हर स्तर पर उपाय किये जा रहे हैं। घरेलू बाजार में जमाखोरों पर सख्ती के साथ विदेशों से प्याज आयात करने को प्राथमिकता दी जा रही है। प्याज की किल्लत कम करने और महंगाई रोकने के लिए केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह की अध्यक्षता वाली मंत्रियों के समूह की बैठक हुई।

सूत्रों के मुताबिक बैठक में प्याज की आपूर्ति बढ़ाने के उपायों की समीक्षा की गई। इसमें मंत्रियों के साथ सरकारी एजेंसियों के आला अफसरों ने भी हिस्सा लिया। अमित शाह की अध्यक्षता में हुई बैठक में केंद्रीय कृषि व किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, रेलवे मंत्री पीयूष गोयल के साथ कैबिनेट सचिव राजीव गाबा और प्रधानमंत्री के सलाहकार पीयूष सिन्हा ने हिस्सा लिया।

कांग्रेस के कई नेताओं ने किया प्रदर्शन

उधर, लंबे समय तक जेल में रहे कांग्रेस के नेता पी. चिदंबरम, लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी और गौरव गोगोई के साथ कुछ और सदस्यों ने संसद परिसर में प्याज के मुद्दे पर प्रदर्शन किया। इस दौरान उन्होंने टोकरी में प्याज लेकर सरकार पर महंगाई बढ़ाने वाले कदम उठाने के आरोप भी लगाया। हाथों में सरकार विरोधी बैनर लेकर उन्होंने सरकार पर गरीबी विरोधी होने के आरोप भी मढ़े।

चिदंबरम ने एक संवाददाता सम्मेलन में वित्तमंत्री के बुधवार के प्याज पर दिये बयान की खिल्ली उड़ाते हुए कहा कि इससे सरकार की सोच को जाना जा सकता है। जबकि राज्यसभा में एक चर्चा के जवाब में सीतारमन ने चिदंबरम पर पलटवार करते हुए कहा कि वह केवल पूरे बयान को समग्रता में लेने के बजाय एक टुकड़े पर टिप्पणी कर रहे हैं, जो उचित नहीं है।

वित्त मंत्री ने दिया आश्वासन

हालांकि सरकार की ओर से बुधवार को केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन ने प्याज के भंडारण के लिए आधुनिक टेक्नोलॉजी के प्रयोग करने का आश्वासन दिया था। लोकसभा में एक चर्चा के दौरान उठे प्याज की महंगाई के मुद्दे पर भाजपा किसान मोर्चा के अध्यक्ष बिरेंद्र सिंह मस्त ने विपक्ष से कहा कि वह उन्हें अपने संसदीय क्षेत्र बलिया में 25 रुपये किलो की दर से प्याज मुहैया करा सकते हैं।

प्याज की कमी के चलते देश के कुछ हिस्सों में कीमतें 100 रुपये प्रति किलो के पार पहुंच गई हैं। केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों से स्थानीय स्तर पर प्याज की आपूर्ति बढ़ाने का निर्देश दिया है। इसके पहले कैबिनेट सचिव राजीव गाबा ने सभी राज्यों में स्थानीय बफर स्टॉक गठित करने को कहा है। आयातित प्याज की पहली खेप अगले सप्ताह तक भारतीय बंदरगाह पर पहुंच जाएगी।

Posted By: Dhyanendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस