नई दिल्ली, प्रेट्र। सार्वजनिक जीवन में सोनिया गांधी और सुषमा स्वराज भले ही एक दूसरे की धुर विरोधी रही हों, लेकिन निजी जीवन में उनके बीच मित्रवत व मधुर संबंध थे। सुषमा स्वराज के निधन पर उनके पति स्वराज कौशल को लिखे शोक पत्र में खुद सोनिया गांधी ने दिवंगत नेता के साथ अपने गर्मजोशी भरे संबंधों को याद किया है।

सुषमा स्वराज को श्रद्धांजलि देते हुए सोनिया गांधी ने पत्र में लिखा है, 'मैं आपकी प्रिय पत्नी सुषमा स्वराज के आकस्मिक निधन पर स्तब्ध और बहुत दुखी हूं।' उन्होंने कहा, 'सुषमा जी एक शानदार वक्ता, महान सांसद थीं और उनका मित्रवत स्वभाव ऐसा था कि संपूर्ण राजनीतिक परिदृश्य में उन्हें सबका स्नेह और प्रशंसा मिली। लोकसभा में वषरें तक सहयोगी के तौर पर हमने काम किया और हमारे बीच एक गर्मजोशरी भरा संबंध बना। आज मुझे बहुत क्षति का आभास हो रहा है।'

संप्रग अध्यक्ष ने आगे लिखा है, 'सुषमा स्वराज असाधारण प्रतिभा वाली महिला थीं, उन्होंने जो भी पद संभाला उस पर रहते हुए उन्होंने साहस, प्रतिबद्धता, समर्पण और योग्यता का परिचय दिया।' उन्होंने कहा है, 'वह बहुत ही मिलनसार थीं और समाज के सभी तबकों के लोगों के साथ उनका गर्मजोशी भरा रुख होता था।'

सोनिया ने कहा, 'वह बहुत जल्द हमें छोड़कर चली गईं जबकि उन्हें अभी सार्वजनिक जीवन में रहकर बहुत योगदान देना था। इसको देखते हुए उनका निधन और दुखद है।' उन्होंने कहा, 'दुख की इस घड़ी में आपके (कौशल) और बांसुरी (बेटी) के प्रति मेरी संवेदना है।'

देश ने एक सम्मानित और समर्पित नेता खोया : मनमोहन
सुषमा स्वराज के निधन पर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने बुधवार को कहा कि देश ने एक सम्मानित और समर्पित नेता खो दिया है। सुषमा स्वराज को महान सांसद और असाधारण-प्रतिभाशाली केंद्रीय मंत्री बताते हुए मनमोहन सिंह ने एक बयान में कहा, 'सुषमा स्वराज जी के आकस्मिक निधन के बारे में सुनकर स्तब्ध हूं। उनके लोकसभा नेता प्रतिपक्ष रहते हुए उनके साथ मेरी सुखद यादें हैं।' उन्होंने कहा, 'वह एक उच्च कोटि की नेता थीं जिनका पार्टी लाइन से इतर सभी सम्मान करते थे।'

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस