विदिशा, जेएनएन। मध्य प्रदेश के विदिशा से कांग्रेस विधायक शशांक भार्गव पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के खिलाफ अमर्यादित टिप्पणी करने को लेकर स्थानीय कोतवाली पुलिस थाने में एफआइआर दर्ज की गई है। इसके कुछ देर बाद ही भार्गव की फैक्ट्री पर भाजपा कार्यकर्ता विरोध प्रदर्शन के लिए पहुंच गए। इस दौरान दोनों तरफ से नोकझोंक के साथ जमकर तोड़फोड़ हुई। फैक्ट्री में बने दफ्तर और बाहर खड़े दो वाहन के कांच फोड़ दिए गए। विधायक ने हंगामे के समय फायर किए जाने का भी आरोप लगाया है। तोड़फोड़ को लेकर भाजपा नेता और कांग्रेस विधायक में आरोप प्रत्‍यारोप का दौर जारी है।

फैक्ट्री पर हंगामे की जानकारी मिलते ही विदिशा के पुलिस अधीक्षक विनायक वर्मा सहित अन्य पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंच गए थे। विधायक के निवास के बाहर बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है। दरअसल, पेट्रोल-डीजल के दाम में बढ़ोतरी के विरोध में विधायक भार्गव सहित अन्य कांग्रेसी नेताओं ने गुरुवार की दोपहर को विरोध प्रदर्शन किया था। आरोप है कि प्रदर्शन के दौरान विधायक भार्गव ने इलेक्ट्रानिक मीडिया से चर्चा करते हुए केंद्रीय मंत्री ईरानी के खिलाफ अमर्यादित टिप्पणी की थी।

इसी को आधार बनाते हुए गुरुवार शाम के समय नगर पालिका अध्यक्ष मुकेश टंडन कार्यकर्ताओं के साथ कोतवाली थाने पहुंचे और विधायक के खिलाफ एफआइआर दर्ज करने का आवेदन दिया। इस आवेदन के आधार पर कोतवाली पुलिस ने विधायक भार्गव के खिलाफ भादंवि की धारा 294 और 504 के तहत केस दर्ज कर लिया। एफआईआर के बाद बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता विधायक भार्गव की इंडस्ट्री एरिया में स्थित फैक्ट्री पर भी पहुंच गए। भाजपा नेता गेट के बाहर प्रदर्शन कर रहे थे तभी हंगामा हो गया। बताया जात है कि इस दौरान विधायक भार्गव वहीं मौजूद थे।

विधायक भार्गव का आरोप है कि फैक्ट्री में बने ऑफिस के कांच तोड़ दिए गए और पर‍िसर में खड़ी दो कारों को भी नुकसान पहुंचाया गया। भार्गव का यह भी कहना है कि भाजपा कार्यकर्ताओं ने तोड़फोड़ के साथ दो फायर भी किए। वहीं भार्गव के निजी सुरक्षा गार्ड का आरोप है कि भीड़ ने उन पर भी हमला किया। इस दौरान अंडे भी फेंके गए। शशांक भार्गव का कहना है कि उनकी फैक्‍ट्री पर नगर पालिका अध्यक्ष मुकेश टंडन के साथ करीब 150 लोग पहुंचे थे। वहीं मुकेश टंडन ने कहा है कि नाराज भाजपा कार्यकर्ता विधायक से माफी मंगवाने के लिए उनकी फैक्ट्री पहुंचे थे जिसमें वह शामिल नहीं थे।