नई दिल्ली, एएनआइ। वीवीआईपी अगस्ता हेलिकाप्टर घोटाले के बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल को कोर्ट में पेश किया गया। जहां कोर्ट ने सुनवाई के बाद बिचौलिए मिशेल को 5 दिनों की सीबीआइ रिमांड पर भेज दिया। अब मिशेल के वकील अल्जो के जोसेफ को लेकर सियासी घमासान छिड़ गया है। मिशेल की पेशी के बाद उसके वकील अल्जो के जोसेफ कांग्रेस मुख्यालय में दिखाई दिए, मीडिया में आई खबरों के मुताबिक वो कांग्रेस के महासचिव दीपक बावरिया से मिलने के लिए कांग3ेस दफ्तर गए थे।

आपको बता दें कि मिशेल के वकील अल्जो के जोसेफ भारतीय युवा कांग्रेस में लीगल डिपार्टमेंट के नेशनल इंचार्ज हैं। वहीं इस मामले पर मीडिया से बातचीत में उन्होंने बताया कि मैं एक वकील हूं अपने पेशे के तहत मैंने इस केस में मिशेल की तरफ से पैरवी की, अपने पेशे के दौरान अगर मैं किसी मुवक्किल की पैरवी करता हूं तो यह मेरी ड्यूटी है। उस वक्त मेरा किसी पार्टी (कांग्रेस) से कोई लेना-देना नहीं होता।

मीडिया से बातचीत में जोसेफ ने आगे बताया कि, 'मेरे संबंध कांग्रेस से अलग हैं और मेरा पेशा अलग है। मैं अपने एक दोस्त के माध्यम से इटली के एक वकील के संपर्क में आया जिससे मुझे इस मामले में मिशेल की पैरवी करने का मौका मिला इसलिए मैने इसे सहजता से स्वीकार किया।

                                     

कांग्रेस ने जोसेफ को पार्टी से निकाला
वहीं अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआइपी हेलिकाप्टर घोटाले के बिचौलिए मिशेल की पैरवी के बाद उसके वकील जोसेफ को लेकर सियासी घमासान बढ़ गया जिसके चलते कांग्रेस ने जोसेफ जोसेफ को पार्टी से निकाल दिया है। यूथ कांग्रेस के प्रवक्ता अमरीश रंजन ने मीडिया से बातचीत में बताया कि अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले में क्रिश्चियन माइकल का केस लड़ रहे वकील और यूथ कांग्रेस के नेता एके जोसफ को पार्टी और यूथ कांग्रेस के लीगल सेल से हटा दिया गया है। रंजन ने बताया कि अगर जोसेफ ने बिना पार्टी से सलाह लिए ही यह केस अपने हाथ में लिया अगर जोसेफ इस केस को हाथ में लेने से पहले एक बार पार्टी से सलाह कर लेते तो शायद यह स्थिति नहीं बनती।

अगस्ता घोटाले में मिशेल के भारत लाए जाने के बाद कांग्रेस की मुश्किलें बढ़ती दिखाई दे रही हैं। इस मामले में मिशेल की पेशी होने के बाद अब सरकार विपक्ष को घेरने की कोई कसर नहीं छोड़ेगी, इसके पहले विपक्ष राफेल डील को लेकर सरकार पर हमलावर था।

Posted By: Ravindra Pratap Sing