अहमदाबाद, जेएनएन। सरकार के बाद अब विपक्ष में भी पद को लेकर नेताओं की नाराजगी सामने आने लगी है, विधानसभा में नेता विपक्ष बनने के लिए कांग्रेस के कई नेता दौड़ में है। पूर्व सांसद व विधायक कुंवरजी बावलिया ने सौराष्ट्र में कांग्रेस की बड़ी जीत के आधार पर इस पद पर दावा ठोका है, शुक्रवार तक नेता विपक्ष का चुनाव होना है। राज्यमंत्री पुरुषोत्तम सोलंकी ने भी सीएम से मिलकर नाराजगी जताई है।

सौराष्ट्र से कोली पटेल समाज के दिग्गज नेता कुंवरजी बावलिया चौथी बार विधायक चुने गए हैं, उनका कहना है कि वे एक बार सांसद भी रह चुके हैं। वरिष्ठता के क्रम में वे खुद को नेता विपक्ष पद का दावेदार मानते हैं तथा उनकी मांग है कि विधायकों से राय लेकर आलाकमान फैसला करे। बावलिया ने कहा कि आलाकमान जो भी फैसला करेगा उन्हें मान्य होगा लेकिन साथ में वे यह भी कहते हैं कि सौराष्ट्र से कांग्रेस को तीस सीटें मिली हैं, यहां 52 फीसदी ओबीसी व 27 फीसदी कोली समाज की आबादी है।

कांग्रेस ने नेता विपक्ष चुनने के लिए कांग्रेस विधायकों की दो दिन की बैठक बुलाई है, प्रदेश अध्यक्ष भरत सिंह सोलंकी व पार्टी प्रभारी अशोक गहलोत इनसे चर्चा करने के बाद नेता विपक्ष के नाम का ऐलान करेंगे। इस पद के लिए पाटीदार नेता परेश धनाणी, विक्रम माडम, मोहन सिंह राठवा भी दावेदार माने जा रहे हैं।

गुजरात की नई सरकार के शपथ ग्रहण के बाद मंत्रालय बंटवारे को लेकर उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल नाराज हो गए थे, भाजपा आलाकमान ने उनको मना लिया तो अब राज्यमंत्री पुरुषोत्तम सोलंकी कैबिनेट मंत्री नहीं बनाए जाने से नाराज हो गये हैं। बुधवार को कैबिनेट की बैठक में सोलंकी नहीं पहुंचे। बैठक में जाने के बजाय उन्होंने अपने गांधीनगर स्थित बंगले पर ही समाज के लोगों के साथ चर्चा करते रहे।

यह भी पढ़ेंः पढ़ें कपिल मिश्रा ने क्यों कहा- '50 करोड़ का सौदा है, आंदोलन के पौधे को रौंदा है'

यह भी पढ़ेंः राज्यसभा ने शून्यकाल और प्रश्नकाल में कामकाज निपटाने का बनाया रिकार्ड

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस