कुरनूल, एएनआइ। आंध्र प्रदेश के कुरनूल जिले के आत्मकुर गांव में हुई सांप्रदायिक हिंसा का मामला लगातार तूल पकड़ता जा रहा है। आत्मकुर सांप्रदायिक हिंसा मामले को लेकर भाजपा के राष्ट्रीय सचिव सुनील देवधर ने आंध्र प्रदेश सरकार पर गंभीर आरोप लगाया है। उन्होंने आत्मकुर गांव में हुई सांप्रदायिक हिंसा के लिए जगनमोहन रेड्डी सरकार के नेताओं पर साजिश रचने का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि वाईएसआरसीपी के नेताओं ने ही आत्मकुर गांव में हुई सांप्रदायिक हिंसा की साजिश रची।

जानकारी के अनुसार, इस महीने की शुरुआत में आंध्र प्रदेश के कुरनूल जिले के आत्मकुर गांव में एक पूजा स्थल के निर्माण को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प हुई थी। भाजपा नेता ने मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी पर आरोप लगाया कि, वह अल्पसंख्यक समाज के मतदाताओं को लुभाने के लिए ‘तुष्टिकरण की राजनीति’ कर रहे हैं। उनका आरोप है कि आत्मकुर गांव की घटना एक पूर्व नियोजित साजिश थी। मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी को घटनाक्रम से अवगत होना चाहिए। आंध्र प्रदेश के लोग राज्य के मुख्यमंत्री से नाराज हैं।

भाजपा के राष्ट्रीय सचिव सुनील देवधर ने आरोप लगाया कि, डिप्टी सीएम अमजद बाशा, विधायक शिल्पा चक्रपाणि रेड्डी और कुरनूल विधायक हफीज खान इस साजिश में शामिल है। उन्होंने राज्य सरकार पर आरोप लगाया कि भाजपा नेता श्रीकांत रेड्डी के खिलाफ झूठा मामला दर्ज किया गया है। हम इस मुद्दे को छोड़ने वाले नहीं हैं, जब तक श्रीकांत रेड्डी पर दर्ज सभी झूठे मामले वापस नहीं ले लिए जाते। उन्होंने आत्मकुर सांप्रदायिक हिंसा मामले में तेलुगु देशम पार्टी (टीडीपी) की चुप्पी पर भी सवाल उठाए हैं, उन्होंने कहा कि, वे भी चुप रहकर ‘तुष्टीकरण की राजनीति’ कर रहे हैं। 

Edited By: Ashisha Rajput