नई दिल्ली, प्रेट्र। अगले वर्ष आम आम चुनाव से पहले ऑयल मार्केटिंग क्षेत्र की सरकारी कंपनियों ने देशभर में करीब 65,000 नए पेट्रोल-डीजल रीफिलिंग स्टेशन आवंटित करने का फैसला किया है। इनमें फिलहाल विधानसभा चुनाव प्रक्रिया से गुजर रहे राज्यों की लोकेशन शामिल नहीं हैं।

इस बार 10वीं पास भी पेट्रोल पंप के लिए आवेदन कर सकेंगे। इससे पहले 12वीं पास ही पेट्रोल पंप के लिए आवेदन कर सकते थे। इस बार सिर्फ ऑनलाइन आवेदन स्वीकार किए जाएंगे। एक अधिकारी ने कहा कि इतने नए रीफिलिंग स्टेशन शुरू होने के बाद देश में पेट्रोल पंप की संख्या करीब दोगुनी हो जाएगी।

कंपनियों ने कहा है कि इन पेट्रोल-डीजल रीफिलिंग स्टेशन की आवंटन शर्तो में इस बार ढील दी गई है। निविदा के मुताबिक शैक्षणिक योग्यता में ढील के बाद आवेदकों के लिए एकमात्र अनिवार्य शर्त यह है कि उनके पास पंप स्थापित करने के लिए अपनी जमीन होनी चाहिए।

आइओसी, बीपीसीएल और एचपीसीएल ने 55,649 नए पेट्रोल पंप आवंटित करने के लिए रविवार को निविदा जारी की। हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (एचपीसीएल) के स्टेट लेवल को-ऑर्डिनेटर विशाल बाजपई ने कहा कि राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और मिजोरम में अभी विधानसभा चुनाव की प्रक्रिया चल रही है। इसलिए इन राज्यों की लोकेशन के लिए निविदा बाद में जारी की जाएगी। इन राज्यों में सरकारी ऑयल कंपनियों द्वारा लगभग 10,000 पेट्रोल पंप खोले जाने की योजना है।

एचपीसीएल ने 12,885 नए पेट्रोल पंप आवंटित करने संबंधी निविदा जारी की है। बाजपई ने कहा कि दिल्ली में इस वक्त 390 पेट्रोल पंप हैं और 170 नए पंप शुरू करने की तैयारी है। इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (आइओसी) ने 26,982 पेट्रोल पंप के लिए निविदा जारी की है।

वर्तमान में देशभर में कंपनी के 27,377 पेट्रोल पंप संचालन में हैं। वहीं, भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) ने 15,802 पेट्रोल पंप के लिए निविदा जारी की है। बाजपई ने कहा कि हाईवे, औद्योगिक हब और कृषि क्षेत्र की बढ़ती मांग को देखते हुए कंपनियों ने इतनी बड़ी संख्या में पेट्रोल पंप शुरू करने का फैसला किया है। इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में भी पंप की संख्या बढ़ाई जा रही है।

Posted By: Arun Kumar Singh